करतारपुर आने वाले भारतीय श्रद्धालुओं को पासपोर्ट की जरूरत नहीं: इमरान खान

इमरान खान ने शुक्रवार को ट्वीट किया, “भारत से करतारपुर आने वाले सिख श्रद्धालुओं के लिए मैंने दो शर्ते हटा दी हैं। इसके तहत अब उन्हें पासपोर्ट की जरूरत नहीं होगी, बल्कि सिर्फ एक वैध पहचान पत्र दिखाने की जरूरत होगी। उन्हें अब 10 दिन पहले से पंजीकरण भी नहीं कराना होगा।”

Written by: November 1, 2019 9:19 am

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को घोषणा करते हुए कहा कि भारत से करतारपुर कॉरिडोर जाने वाले श्रद्धालुओं को पासपोर्ट दिखाने की जरूरत नहीं होगी। इमरान खान ने शुक्रवार को ट्वीट किया, “भारत से करतारपुर आने वाले सिख श्रद्धालुओं के लिए मैंने दो शर्ते हटा दी हैं। इसके तहत अब उन्हें पासपोर्ट की जरूरत नहीं होगी, बल्कि सिर्फ एक वैध पहचान पत्र दिखाने की जरूरत होगी। उन्हें अब 10 दिन पहले से पंजीकरण भी नहीं कराना होगा।”

उन्होंने कहा, “उद्घाटन समारोह पर आने वाले और गुरू जी (सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी) की 550वीं जयंती पर आने वाले श्रद्धालुओं से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।”

यह सिख समुदाय के सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है, जहां श्रद्धालु पहले सिख गुरु के 550वीं जयंती को मनाने के लिए आ रहे हैं। पाकिस्तान प्रशासन ने करतारपुर कॉरिडोर जाने वाले श्रद्धालुओं से बीस डॉलर सेवा शुल्क वसूलने का फैसला किया है।

बता दें भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन करेंगे। इसके बाद पंजाब के गुरदासपुर में डेरा बाबा नानक में एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करेंगे। हालांकि, प्रधानमंत्री मोदी करतारपुर साहिब का दौरा करने वाले पहले ‘जत्थे’ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे या नहीं, अभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। श्रद्धालुओं के इस पहले जत्थे का पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी हिस्सा होंगे।

kartarpur

वहीं कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का न्योता स्वीकार कर लिया है। इमरान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि सिद्धू ने करतारपुर कॉरिडोर उद्घाटन समारोह में आने का न्योता देने के लिए इमरान खान को धन्यवाद कहा है।