कश्मीर के मुद्दे पर तालिबान ने भी दिया पाकिस्तान को झटका

कश्मीर मुद्दे को लेकर अंतर्राष्ट्रीय मदद की उम्मीद कर रहे पाकिस्तान को अब तालिबान से भी झटका लगा है। तालिबान ने साफ कर दिया है कि अफगानिस्तान मुद्दे को कश्मीर से ना जोड़ा जाए।

Written by: August 9, 2019 3:59 pm

नई दिल्ली। कश्मीर मुद्दे को लेकर अंतर्राष्ट्रीय मदद की उम्मीद कर रहे पाकिस्तान को अब तालिबान से भी झटका लगा है। तालिबान ने साफ कर दिया है कि अफगानिस्तान मुद्दे को कश्मीर से ना जोड़ा जाए। तालिबान के प्रवक्ता जबीहउल्लाह मुजाहिद ने कहा है कि कुछ पक्षों द्वारा अफगानिस्तान को कश्मीर मुद्दे से जोड़ा जा रहा है। उसने कहा कि, इससे संकट से निपटने में किसी तरह की कोई मदद नहीं मिलने वाली है क्योंकि दोनों मुद्दे अलग-अलग हैं।

taliban

असल में पाकिस्तान की नजर इस बात पर है कि यदि वह अफगानिस्तान में शांति प्रकिया को बढ़ावा देता है तो अमेरिका से उसे कश्मीर मसले के हल में मदद मिल सकेगी। बता दें कि बीते कई सालों से तालिबान पाकिस्तान को अपना संरक्षक मानता रहा है। पाकिस्तान ने उसे अपनी सरजमीं पर पलने-बढ़ने, ट्रेनिंग लेने का मौका दिया है। इसके अलावा खूंखार आतंकी संगठन के लड़ाकों और कमांडरों और फंडिंग तक मुहैया कराई है।

taliban 1

तालिबान के साथ निकट संबंधों के चलते ही पाकिस्तान को अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया में हिस्सा बनने का मौका मिला है। भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने और उसे केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने से पाक बौखलाया हुआ है। इसके चलते पाकिस्तान ने अमेरिका पर दबाव बनाने के लिए अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया को बाधित करने की धमकी दी है।


इस बीच अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई ने भी पाकिस्तान को नसीहत देते हुए कहा है कि वह क्षेत्र में अस्थिरता फैलाने के लिए हिंसा का इस्तेमाल न करे।

karzai

करजई ने ट्वीट किया, ‘अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया को कश्मीर में अपने उद्देश्य से जोड़ना, यह बताता है कि पाकिस्तान अफगानिस्तान को महज एक रणीनीतिक उपकरण के तौर पर देखता है। मैं पाकिस्तान सरकार से कहना चाहता हूं कि वह क्षेत्र में हिंसा को अपने हथियार के तौर पर इस्तेमाल करना बंद करे। हम उम्मीद करते हैं कि जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत सरकार का फैसला राज्य और भारत के लोगों की बेहतरी वाला साबित होगा।’