जिहादी बन गई छात्रा, यूनिवर्सिटी ने रद्द किया दाखिला

पाकिस्तान की एक छात्रा का हैरान कर देने वाला कारनामा सामने आया है, जिसके बाद उस पर सिंध यूनिवर्सिटी की तरफ से कार्रवाई की गई है। बता दें कि सीरिया में इस्लामिक स्टेट से हथियार चलाने का प्रशिक्षण ले चुकी और लाहौर में एक चर्च पर असफल आत्मघाती हमले का हिस्सा रह चुकी 22 साल की एक छात्रा का दाखिला रद्द कर दिया है।

Written by: May 20, 2019 4:52 pm

नई दिल्ली। पाकिस्तान की एक छात्रा का हैरान कर देने वाला कारनामा सामने आया है, जिसके बाद उस पर सिंध यूनिवर्सिटी की तरफ से कार्रवाई की गई है। बता दें कि सीरिया में इस्लामिक स्टेट से हथियार चलाने का प्रशिक्षण ले चुकी और लाहौर में एक चर्च पर असफल आत्मघाती हमले का हिस्सा रह चुकी 22 साल की एक छात्रा का दाखिला रद्द कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक, सिंध प्रांत में लियाकत यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल ऐंड हेल्थ साइंसेज की छात्रा नौरीन लेघारी फरवरी, 2017 में अपने पैतृक शहर हुसैनाबाद से गायब हो गई थी। दो महीने बाद उसे लाहौर में एक मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया गया था। उस मुठभेड़ में उसका एक साथी सुरक्षाबलों के हाथों मारा गया था।

द न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, उसकी गिरफ्तारी के बाद एलयूएमएचएस ने उसका दाखिला रद्द कर दिया। फिर उसने नवंबर, 2018 में सिंध यूनिवर्सिटी के अंग्रेजी विभाग में दाखिला ले लिया, लेकिन जब यूनिवर्सिटी को उसकी पृष्ठभूमि के बारे में पता चला तब उसने उसका दाखिला रद्द कर दिया।

बता दें कि लड़की के पिता डॉ. अब्दुल जब्बार लेघारी डॉ.एम ए काजी इंस्टिट्यूट ऑफ केमिस्ट्री में प्रोफेसर हैं। नौरीन और उसके पिता ने सिंध यूनिवर्सिटी के खिलाफ सिंध हाई कोर्ट में संयुक्त संवैधानिक याचिका दायर की है और दलील दी कि संविधान के अनुच्छेद के-25 के अनुसार यूनिवर्सिटी प्रबंधन उसे शिक्षा के अधिकार से वंचित नहीं कर सकता।