ईरानी पोतों ने ब्रिटिश टैंकर को रोकने की कोशिश की, क्षेत्र में बढ़ा तनाव

आगे कहा गया कि एचएमएस मोंट्रोस को ईरानी जहाजों और ब्रिटिश हेरिटेज के बीच खुद को लाना पड़ा और फिर उसने ईरानी जहाजों को मौखिक चेतावनी जारी की, जिसके बाद वह दूर हो गए।

Written by Newsroom Staff July 11, 2019 2:51 pm

नई दिल्ली। ब्रिटिश सरकार का कहना है कि ईरान के तीन पोतों ने खाड़ी के समुद्री क्षेत्र में एक ब्रिटिश टैंकर के रास्ते को बाधित करने की कोशिश की, जिसके बाद उसके एक युद्धपोत को हस्तक्षेप करना पड़ा। ब्रिटिश सरकार ने बुधवार को हुई इस घटना पर तीखी प्रतिक्रिया दी है।

ब्रिटेन ने एक बयान में कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय कानून के विपरीत 3 ईरानी पोतों ने स्ट्रेट ऑफ हॉर्मूज के जरिए वाणिज्यिक पोत ब्रिटिश हेरिटेज का मार्ग बाधित करने की कोशिश की।’ आगे कहा गया कि एचएमएस मोंट्रोस को ईरानी जहाजों और ब्रिटिश हेरिटेज के बीच खुद को लाना पड़ा और फिर उसने ईरानी जहाजों को मौखिक चेतावनी जारी की, जिसके बाद वह दूर हो गए।

ब्रिटिश सरकार ने कहा है कि वह इस कार्रवाई से चिंतित है और ईरानी अधिकारियों से तनाव की स्थिति को कम करने का आग्रह करते हैं। बता दें कि पिछले सप्ताह जिब्राल्टर में ब्रिटिश अधिकारियों ने ईरान के एक तेल टैंकर को रोका था।

माना जाता है कि ये टैंकर युद्ध से तबाह सीरिया में ईरान का कच्चा तेल लेकर जा रहा था जिस पर यूरोपीय संघ ने प्रतिबंध लगाए हुए हैं।

Iran President Hassan Rouhani

इसके बाद ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने ब्रिटेन को आगाह किया कि जिब्राल्टर के तट पर देश के एक तेल टैंकर को कब्जे में लेने की कोशिश पर ब्रिटेन को परिणाम भुगतने होंगे। उन्होंने ब्रिटेन को चेताया, ‘मैं इस बात को रेखांकित करना चाहूंगा कि समुद्री क्षेत्र में असुरक्षा की शुरुआत आपने की है और आपको इसके परिणामों का अहसास जल्द और जरूर होगा।’