संयुक्त राष्ट्र के पास अब नहीं बचा है पैसा, तनख्वाह के पड़ गए लाले

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने इस बात की घोषणा कर दी है। गुटेरेस ने कहा है कि इस महीने के आखिर में संयुक्त राष्ट्र का फंड समाप्त हो जाएगा। संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्यों में से सिर्फ 128 सदस्यों ने ही 3 अक्टूबर तक अपने बकाए का भुगतान किया है।

Written by: October 9, 2019 6:02 pm

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र संघ पैसों के भारी संकट से जूझ रहा है। उसके पास रिजर्व में मौजूद पैसा खत्म होने वाला है हालत यहां तक पहुंच गई है कि कर्मचारियों को देने के लिए तनख्वाह के पैसे नहीं बचे हैं। यह वही संयुक्त राष्ट्र संघ है समूचे विश्व में जरूरत पड़ने पर मदद की राशि मुहैया कराता है।

UN

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने इस बात की घोषणा कर दी है। गुटेरेस ने कहा है कि इस महीने के आखिर में संयुक्त राष्ट्र का फंड समाप्त हो जाएगा। संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्यों में से सिर्फ 128 सदस्यों ने ही 3 अक्टूबर तक अपने बकाए का भुगतान किया है। संयुक्त राष्ट्र ने बाकी बकायेदारों से गुहार लगाई है।

UN 1

यानी हालात बेहद चिंताजनक है। इन हालातों में संयुक्त राष्ट्र ने अपने कर्मचारियों को आगाह किया है कि संगठन को अपने बजट में 23 करोड़ डॉलर कमी का सामना करना पड़ेगा। संयुक्त राष्ट्र का साल का नियमित बजट 5.4 अरब डॉलर है। यह शांति कायम करने पर खर्च होने वाले 6.5 अरब डॉलर के बजट से अलग है। साल की शुरुआत में सदस्य देशों द्वारा बकाए का भुगतान नहीं करने के कारण संयुक्त राष्ट्र को इस संकट से जूझना पड़ रहा है।

UN 2

भारत इस मामले में उदाहरण है। भारत ने नियमित बजट में अपने हिस्से का 232.5 लाख डॉलर 30 जनवरी को ही चुका दिया है। भारत संयुक्त राष्ट्र के उन कुछ सदस्य देशों में शामिल है, जिसने समय पर भुगतान किया है। संयुक्त राष्ट्र के पास धन की कमी का एक कारण अमेरिका है, जिसने अपने बकाये का भुगतान नहीं किया है। अमेरिका संयुक्त राष्ट्र के नियमित बजट में 22 फीसदी का योगदान देता है।