Connect with us

ऑटो

Auto: अगर अपने नाबालिग बच्चे को गाड़ी दी तो 3 साल के लिए जाना पड़ेगा जेल, जानें ये नियम

Auto: इसीलिए, एक जिम्मेदार माता-पिता के रूप में लोगों को उनके बच्चों और उनकी ड्राइविंग की आदतों पर ध्यान देने की जरूरत होती है। 18 वर्ष की उम्र से कम उम्र के बच्चों को गाड़ी नहीं देनी चाहिए।

Published

on

नई दिल्ली। यातायात नियमों के अनुसार, मोटरवाहन चलाने के लिए वैध ड्राइविंग लाइसेंस का आवेदन करने की न्यूनतम आयु 18 वर्ष है। लेकिन, कई बार इस नियम को टूटते देखा गया है। और खुले तौर पर इस नियम का उल्लंघन किया जाता है। ये नाबालिग ड्राइवर ज्यादातर स्कूल जाने वाले छात्र ही होते हैं। हालांकि, कम उम्र में ड्राइविंग के मुद्दे के संबंध में स्कूलों में सर्कुलर भेजे जाते हैं, लेकिन इसका कम उम्र के ड्राइवरों पर कोई असर नहीं पड़ता है। ये कम उम्र के ड्राइवर समझ नहीं पाते लेकिन कुल मिलाकर ये खुद अपनी जान खतरे में डाल रहे होते हैं। इसीलिए, एक जिम्मेदार माता-पिता के रूप में लोगों को उनके बच्चों और उनकी ड्राइविंग की आदतों पर ध्यान देने की जरूरत होती है। 18 वर्ष की उम्र से कम उम्र के बच्चों को गाड़ी नहीं देनी चाहिए।

18 साल के बच्चे को गाड़ी न दें

अगर आपके बच्चे की उम्र 18 साल से कम है, तो बेहतर है कि उसे मोटरसाइकिल या गाड़ी की चाबियां न दें। ऐसा कभी न हो लेकिन जरा सोचिए कि आपका बच्चा दुर्घटना का शिकार हो जाए तो क्या होगा? भले ही आपके गाड़ी बीमा पॉलिसी हो लेकिन वह किसी काम की नहीं होगी क्योंकि आप कोई क्लेम नहीं कर पाएंगे। दरअसल, अगर कोई नाबालिग ड्राइविंग कर रहा होता है तो बीमा के फायदे उसके लिए लागू नहीं होते हैं। ऐसे में कोई क्लेम नहीं किया जा सकता है।

माता- पिता पर हो सकती है कार्रवाई

इसके अलावा, अगर आपका कोई 18 साल की कम उम्र वाला बच्चा ड्राइविंग करते हुए पकड़ा जाता है तो उसके माता-पिता पर 25 हजार रुपये का जुर्माना लग सकता है या फिर माता-पिता या अभिभावकों पर कार्रवाई हो सकती है। इसके साथ ही, उन्हें 3 साल तक की जेल भी हो सकती है। इसीलिए, अगर आपका बच्चा नाबालिग है और आप उसे गाड़ी चलाने के लिए देते हैं तो तुरंत सावधान हो जाएं। ऐसा करना आपके लिए खतरा बढ़ा सकता है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement