दुनिया

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पहले WHO को चीनपरस्त बताया उसके बाद संगठन प्रमुख टेड्रोस एडहैनम गेब्रेयेसस पर निशाना साधा है।

तकनीक की दुनिया का बेताज बादशाह जापान अपनी कंपनियों का ऑपरेशन चीन से शिफ्ट करने की तैयारी में है।

जिस तरह दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में हजारों तबलीगी जुटे और फिर घातक वायरस लेकर देश के कई कोनों में फैल गए, उसी तरह पाकिस्तान के रावलपिंडी में भी उन्होंने चेतावनियों को दरकिनार करके सालाना सम्मेलन किया और कोरोना संक्रमण बढ़ाने के जिम्मेदार बने।

अमेरिका में लगातार दूसरे दिन लगभग दो हजार कोविड-19 संक्रमित लोगों की मौत के बाद देश में कोरोनावायरस महामारी के चलते कुल मौतों की संख्या बढ़कर 14,817 हो गई है।

नए आए 63 केस के अलावा चीन में दो मौत भी हुई हैं, जिसके साथ ही कोरोनावायरस से मरने वालों का आंकड़ा 3335 हो गया है।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव गुटेरेस ने कहा कि मौजूदा स्वास्थ्य संकट के खत्म होने पर इस बात का अध्ययन करने के लिए समय होगा कि इस तरह की बीमारी कैसे उभरी और इतनी तेजी से कैसे फैल गई। साथ ही इसमें शामिल सभी पक्षों के प्रदर्शन का मूल्यांकन किया जा सकेगा।

इससे पहले बोलसोनारो ने मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति की मांग के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मंगलवार को पत्र लिखा था। जिसमें रामायण के एक प्रसंग का जिक्र था।

आंकड़ों की माने तो कोरोनावायरस से 180 से अधिक देश और क्षेत्र प्रभावित हुए हैं, जबकि महामारी से वर्तमान में 3,17,800 से अधिक लोग उपचार के बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ हो चुके हैं।

तत्काल प्रभाव से फंड रोकने के सवाल पर डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि मैं ये नहीं कह रहा कि तुरंत बंद कर देंगे, लेकिन हम इस बारे में विचार जरूर करेंगे।