दुनिया

India-China Border Dispute: भारत और चीन (India and China) के बीच पिछले कई महीनों से सीमा पर लगातार तनाव की स्थिति बनी हुई है। डैगन जहां लगातार सीमा पर नापाक साजिशों को अंजाम देने की फिराक में लगा हुआ है, वहीं भारतीय सेना भी उनके हर एक मंसूबों पर पानी फेरते हुए करारा जवाब दे रही है।

US President : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) को भेजे गए एक संदिग्ध पैकेज में जहर मिलने में पुष्टि हुई है। कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने इस सप्ताह के शुरुआत में एक पैकेट की छानबीन की जिसमें रिसिन (Ricin) नाम के जहर की पुष्टि हुई है।

India Pakistan: मोदी सरकार(Modi Government) ने 370 को खत्‍म करके दो केंद्र शासित प्रदेश बनाए, इसको लेकर पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। भारत ने जयंत खाबरागड़े(Jayant Khobragade) की इस्‍लामाबाद में नियुक्ति को लेकर उनके नाम की घोषणा जून में ही कर दी थी।

US ban on TikTok, WeChat : वीचैट (WeChat) और टिकटॉक एप (TikTok) प्रतिबंध लगाने के ट्रंप सरकार के आदेश पर चीन पूरी तरह से बौखलाया गया है। इतना ही नहीं तिलमिलाए ड्रैगन ने अब अमेरिका को धमकी तक दे डाली है।

KulBhushan Jadhav Case : दरअसल पाकिस्तानी मीडिया(Pak Media) की रिपोर्ट्स के मुताबिक पाक विदेश मंत्रालय ने कहा है कि जिसके पास पाकिस्तान की बार का लाइसेंस हो, वही वकील पाकिस्तान(Pakistan) में केस लड़ सकता है।

Imran Khan on Gilgit Baltistan : पाकिस्तानी अखबार द एक्सप्रेस ट्रिब्यून(The Express Tribune) से अली अमीन(Ali Amin) ने कहा है कि जल्द ही इस क्षेत्र का दौरा प्रधानमंत्री इमरान खान(PM Imran Khan) करेंगे और इसका औपचारिक ऐलान करेंगे।

greater nepal campaign nepal claims on dehradun,नेपाल(Nepal) भारत(India) को उकसाने की हरसंभव कोशिश कर रहा है। इसके पहले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली(KP Sharma Oli) ने दावा किया था कि राम वास्तव में नेपाल में पैदा हुए थे और असली अयोध्या भी नेपाल में ही है।

britain and us issued new travel advisory for china,हाल के महीनों में चीन(China) ने कनाडाई(Canada), ऑस्ट्रेलियाई(Australasia), जापानी नागरिकों को हिरासत में लिया है। इन लोगों में से कई पर ड्रग्स, सीक्रेट डेटा चुराने का मनगढ़ंत आरोप भी लगाए गए हैं।

कोविड-19(Covid-19) के चलते सीमित संख्या में अतिथियों को लंदन(London) में इंडिया हाउस(India House) में आयोजित एक समारोह में बुलाया गया। समारोह में लंदन स्थित श्री मुरुगन मंदिर के पुजारियों ने मूर्तियों की संक्षिप्त पूजा अर्चना की और इसके बाद उन्हें भारत को सौंप दिया गया।