देश

शनिवार को सोनभद्र के जिला अधिकारी अंकित अग्रवाल ने कहा, "सभी 10 मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये वितरित किए गए हैं। चेक लेने के लिए आठ लोग उपस्थित थे और दो लोग अनुपस्थित रहे।"

मांगे राम की खासियत यह भी थी कि उनमें चुनाव जीतने की अद्भुत कला थी। वो राजनीतिक जीवन में बहुत कम गलतियां करते थे। उन्होंने दिल्ली में एमसीडी चुनाव का नेतृत्व किया था और जीत भी दिलाई थी।

उनके निधन पर दिल्ली में दो दिन का शोक घोषित किया गया है। बता दें कि उनका अंतिम संस्कार रविवार को दोपहर 2:30 निगम बोध घाट पर होगा।

यह मुठभेड़ शनिवार को रात सम्भल बार्डर पर आदमपुर क्षेत्र के लखनपुर पुल के पास शेरगढ़ व इमरतपुर गांव के जंगल में हुई। तीसरे की तलाश में कांबिंग चल रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने शीला दीक्षित की मौत पर दुख जाहिर किया है।

बता दें कि सोनभद्र के घोरावल थानाक्षेत्र के मूर्तिया (उभ्भा) गांव में 17 जुलाई को नरसंहार हुआ था। बीते बुधवार की दोपहर में सौ बीघा विवादित जमीन को लेकर गुर्जर और गोड़ बिरादरी में खूनी संघर्ष हो गया।