लाइफस्टाइल

हरी सब्जियों में भरपूर पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। कहते हैं कि हरी सब्जियां खाने से इंसान शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्वस्थ्य रहता है, लेकिन क्या आपको पता है कि लाल रंग के फल और सब्जियों में भी कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए काफी जरूरी हैं।

नेचर डिजिटल मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन-मैडिसन और मोरग्रीज इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च के शोधकर्ता दवा को अमल में लाने के लिए यूरिन (मूत्र) में पाए जाने वाले मेटाबोलिक हेल्थ इन्फॉर्मेशन पर काम कर रहे हैं।

एक बयान में बताया गया है कि आयुर्वेदिक फार्मूले से बनी इस आधुनिक दवा के प्रभाव को वैज्ञानिक आकलन के आधार पर प्रमाणित किया जा चुका है। इस बीमारी के गंभीर मरीजों के इलाज में इस दवा को पूरक औषधि के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।

एम्स में नेत्र रोग विशेषज्ञ के शिक्षक राजेश सिन्हा ने कहा, "बढ़ते प्रदूषण के कारण सूखी आंख और नेत्र संबंधी एलर्जी की घटनाओं में वृद्धि हुई है।

डायबिटीज की बीमारी अब जैसे आम बात हो गई है। ये बीमारी बच्चों से लेकर बडे-बूढ़ों लोगों को भी होती है। यह बीमारी पूरे विश्व के सामने एक चुनौती बनी हुई है जिस वजह से हमेशा नए-नए शोध होते रहते हैं। हाल ही में हुए एक नए शोध के अनुसार छोटे कद के लोगों में डायबिटीज का खतरा ज्यादा होता है।

सर्दियों के शुरु होने के साथ ही चेहरे पर भी इसका असर दिखने लगता है। सर्दियों में चेहरे का रुखापन बढ़ने से कई परेशानियां सामने आ जाती हैं। आप अपने चेहरे को लेकर खासा चिंतिंत होते हैं। अपने चेहरे को और भी संवारने के लिए सर्दियों में आपको अपनी डाइट में कुछ खास फलों को शामिल करना चाहिए।

अध्ययन में पता चला है कि ज्यादातर लोगों को वायु में पाए जाने वाले छोटे-छोटे कणों के कारण दिल का दौरा पड़ने का गंभीर खतरा बना रहता है।

अदरख को भी जड़ी बूटी के तौर पर देखा जाता है। एक हालिया शोध में यह तथ्य सामने आए हैं कि अदरख के मौखिक सेवन से अस्थमा में काफी आराम मिलता है। इसके साथ ही चाय के साथ इसका सेवन कर इसका सेवन डिटॉक्स ड्रिंक के तौर पर किया जा सकता है।

आयुर्वेद में कई उपयोगी दवाएं हैं। आयुर्वेद में उन बीमारियों का उपचार है जिनका एलोपैथी में नहीं है। लेकिन उन्हें आधुनिक चिकित्सा की कसौटी पर परखे जाने और प्रमाणित किये जाने की जरूरत है।