Connect with us

बिजनेस

Video: ‘भारत भाग्य विधाता’, Paytm IPO की लिस्टिंग पर फाउंडर विजय शर्मा के आंखों से छलके आंसू, जानिए वजह

Video: विजय शेखर शर्मा ने ही Paytm की स्थापना की थी। भले ही आज पेटीएम के आईपीओ के तहत शेयरों की लिस्टिंग निराशाजनक हुई हो, लेकिन इसके फाउंडर विजय शेखर शर्मा के जीवन की संघर्ष की कहानी प्रेरित करने वाली है। विजय शेखर यूपी के अलीगढ़ जिले के एक छोटे से गांव के मूल निवासी और एक स्कूल टीचर के बेटे हैं।

Published

on

paytm

नई दिल्ली। गुरुवार को डिजिटल पेमेंट कंपनी Paytm को चलाने वाली फिनटेक स्टार्टअप कंपनी One97 Communications Ltd के आईपीओ के तहत शेयरों की लिस्टिंग हुई जो थोड़ी निराशाजनक रही। कंपनी के लिए इस ऐतिहासिक मौके पर लिस्टिंग सेरेमनी में इसके फाउंडर और सीईओ विजय शेखर शर्मा भावुक नजर आए। उनकी आंखों से आंसू तक निकल पड़े। यहां बता दें, आज गुरूवार को BSE पर पेटीएम के शेयर 1955 रुपये पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर 1950 रुपये पर लिस्ट हुए। सुबह करीब 10 बजे के पास बीएसई पर ये शेयर और टूटते हुए 1777.50 रुपये तक जा पहुंचा। इसी तरह ये एनएसई पर यह 1776 रुपये तक पहुंचा।

Paytm (1)

एक छोटे से गांव से आए थे विजय शर्मा

विजय शेखर शर्मा ने ही Paytm की स्थापना की थी। भले ही आज पेटीएम के आईपीओ के तहत शेयरों की लिस्टिंग निराशाजनक हुई हो, लेकिन इसके फाउंडर विजय शेखर शर्मा के जीवन की संघर्ष की कहानी प्रेरित करने वाली है। विजय शेखर यूपी के अलीगढ़ जिले के एक छोटे से गांव के मूल निवासी और एक स्कूल टीचर के बेटे हैं। आज विजय शेखर का नाम फोर्ब्स की अरबपतियों की लिस्ट में शामिल हैं। विजय शेखर ने हिंदी मीडियम स्कूल से अपनी स्कूली पढ़ाई की थी। ऐसे में पेटीएम जैसी दिग्गज फिनटेक कंपनी को स्थापित करना, उसे शिखर तक पहुंचाना काफी मुश्किलों से भरा था। इस IPO से कंपनी ने करीब 18,300 करोड़ रुपये जुटाए हैं। निवेश के लिए Paytm का आईपीओ 10 नवंबर को बंद हुआ था। कंपनी ने इस IPO के लिए प्राइस बैंड 2,080 से 2,150 रुपये प्रति शेयर निर्धारित किया था।

paytm-1200

क्यों भावुक हुए विजय शेखर शर्मा

लिस्टिंग सेरेमनी के अपने स्पीच की शुरुआत में ही विजय शेखर शर्मा भावुक हो गए। इस दौरान अपनी आंखों से आंसू पोछते हुए शेखर शर्मा ने कहा, ‘जब भी राष्ट्रगान बजता है तो उसकी एक लाइन भारत भाग्य विधाता को सुनकर मेरी आंखों में से आंसू आ जाते हैं। आज भी मेरे साथ वही हुआ। ये भारत भाग्य विधाता शब्द पता नहीं क्यों मेरे जीवन से इस तरह से जुड़ा है कि मेरी आंखों में आंसू आ जाते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘आज ऐसा दिन है जिस दिन युवा भारत के सपने मेरे साथ ही पूरे हो रहे हैं। ऐसा दिन जिस पर लोग भरोसा नहीं कर रहे थे। कोई सोच नहीं सकता था कि हम देश का सबसे बड़ा आईपीओ होंगे, लेकिन आज यह हो गया है।’ उन्होंने कहा, ‘लोग कहते थे कि आप इतनी ऊंची प्राइस पर पैसे कैसे जुटाएंगे, तो मैं कहता था कि हम प्राइस के लिए पैसे नहीं बल्कि किसी उद्देश्य के लिए जुटा रहे हैं। मैं लाखों निवेशकों को पेटीएम की यात्रा से जुड़ने के लिए आमंत्रित करता हूं।’

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement
Advertisement