Connect with us

बिजनेस

EPFO Interest Rate: PF खाताधारकों के लिए बड़ी खबर, जानें सरकार ने लिया ये फैसला

EPFO Interest Rate: बहरहाल, अब सरकार के इस फैसले के उपरांत नौकरीपेशा लोगों की तरफ से क्या कुछ प्रतिक्रिया देखने को मिलते हैं। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही बताएगा। लेकिन, उससे पहले आप यह जान लीजिए कि केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद के उच्च सदन में कहा कि पिछले 40 सालों में दर में कभी कोई कमी नहीं की गई है।

Published

on

नई दिल्ली। यूं तो खबरों की इस दुनिया में बेशुमार खबरों आवाजाही जारी ही रहती है, लेकिन अगर आप भी हमारी ही तरह किसी दफ्तर में 8 घंटे की निजी नौकरी करते हैं, तो यकीन मानिए इस खबर से वाकिफ होने के बाद आपको बड़ा झटका लग सकता है। आप हैरान तो होंगे ही लेकिन अगर आप संवेदनशील हैं, तो यकीन मानिए आप परेशान भी हो सकते हैं, क्योंकि केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कर्मचारी भविष्य निधि यानी की ईपीएफओ ने 8.5 फीसद से घटाकर 8.1 फीसद कर दिया है। इस फैसले के उपरांत उन सभी लोगों को बड़ा झटका लगने जा रहा है, जो कि नौकरी करते हैं और अपने वेतन में कटने वाले इपीएफओ को अपने भविष्य हेतु अर्जित करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि 40 सालों से दर में कमी नहीं की गई थी और नई घटी हुई दर आज की वास्तविकताओं को दर्शाती है। अन्य छोटी बचत योजनाओं पर दरें और भी कम हैं।

epfo started PF accountholders self fill nominee name in his account | EPFO  ने दी सुविधा अब ऑनलाइन खुद बदल सकेंगे नॉमिनी | Patrika News

बहरहाल, अब सरकार के इस फैसले के उपरांत नौकरीपेशा लोगों की तरफ से क्या कुछ प्रतिक्रिया देखने को मिलते हैं। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही बताएगा। लेकिन, उससे पहले आप यह जान लीजिए कि केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद के उच्च सदन में कहा कि पिछले 40 सालों में दर में कभी कोई कमी नहीं की गई है। ध्यान रहे कई वर्षों के उपरांत केंद्रीय वित्त मंत्री की तरफ से उक्त ऐलान किया गया है। आइए, आगे की रिपोर्ट में यह जान लेते हैं कि आखिर इससे पहले विगत वर्षों में इपीएफओ के क्या दर रहे हैं।

  1. वित्त वर्ष 2015- 8.75
  2. वित्त वर्ष 2016- 8.80
  3. वित्त वर्ष 2017 – 8.65
  4. वित्त वर्ष 2018 – 8.55
  5. वित्त वर्ष 2019 – 8.65
  6. वित्त वर्ष 2020 – 8.50
  7. वित्त वर्ष 2021 – 8.50
  8. वित्त वर्ष 2022 – 8.10

तो इतना सब कुछ जानने के बाद अगर आपके जेहन में यह सवाल उठ रहा है कि आखिर इपीएफओ के क्या है, तो आप यह जान लीजिए कि ईपीएफओ एक केंद्रीय एजेंसी बोर्ड है, जो यह तय करने का काम करती है कि दर क्या होनी चाहिए। तो उपरोक्त खबर से वाकिफ होने के बाद आप इस फैसले पर क्या कुछ कहना है। आप हमें कमेंट कर बताना बिल्कुल भी मत भूलिएगा। तब तक के लिए आप देश दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए पढ़ते रहिए । न्यूज रूम पोस्ट.कॉम…।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
file photo of ajmer dargah
देश4 weeks ago

Rajasthan: उदयपुर में हत्या और खादिमों की नूपुर पर हेट स्पीच का असर, पर्यटकों ने अजमेर दरगाह से बनाई दूरी, होटल बुकिंग भी करा रहे कैंसल

मनोरंजन2 days ago

Boycott Laal Singh Chaddha: क्या Mukesh Khanna ने Aamir Khan की फिल्म के बॉयकॉट का किया समर्थन, बोले-अभिव्यक्ति की आजादी सिर्फ मुस्लिमों के पास है, हिन्दुओं के पास नहीं

दुनिया1 week ago

Saudi Temple: सऊदी अरब में मिला 8000 साल पुराना मंदिर और यज्ञ की वेदी, जानिए किस देवता की होती थी पूजा

बिजनेस4 weeks ago

Anand Mahindra Tweet: यूजर ने आनंद महिंद्रा से पूछा सवाल, आप Tata कार के बारे में क्या सोचते हैं, जवाब देखकर हो जाएंगे चकित

milind soman
मनोरंजन5 days ago

Milind Soman On Aamir Khan: ‘क्या हमें उकसा रहे हो…’; आमिर के समर्थन में उतरे मिलिंद सोमन, तो भड़के लोग, अब ट्विटर पर मिल रहे ऐसे रिएक्शन

Advertisement