Connect with us

बिजनेस

Ration Card: आप भी लेते हैं सरकारी राशन तो पहले जान लें ये नए नियम, अगले महीने से होंगे लागू

Ration Card: यूपी-बिहार जैसे राज्यों में गेहूं के आवंटन को फिलहाल खत्म करने का कारण गेहूं की कम खरीद को माना जा रहा है। खाद्य सचिव सुधांशु पांडे ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस दौरान करीब 55 लाख मीट्रिक टन चावल का अतिरिक्त आवंटन किया जाएगा।

Published

on

Ration Card

नई दिल्ली। अगर आपके पास भी राशन कार्ड है और आप भी इसके जरिए हर महीने सरकार की तरफ से मुफ्त राशन लेते हैं तो ये खबर आपके लिए ही है। दरअसल, सरकार की तरफ से राशन के नियमों में कुछ बदलाव किए गए हैं। ये बदलाव आने वाले महीने यानी कि जून से लागू होंगे। ऐसे में जो भी सरकार की तरफ से फ्री राशन की सुविधा उठाते हैं उन्हें इस खबर को जरूर जान लेना चाहिए।

Ration Card

गेहूं की जगह चावल देने की तैयारी में सरकार

केंद्रे की मोदी सरकार की तरफ से राज्यों में राशन कार्ड धारकों को गेहूं के साथ ही चावल भी दिया जा है। पीएम गरीब कल्याण अन्ना योजना (Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana) के तहत ये वितरण किया जाता है। अब इस योजना के तहत लोगों को गेहूं की जगह पर चावल ही दिए जाएंगे। नए नियम के लागू होने के बाद जून से आपको गेहूं कम और चावल अधिक मात्रा में मिलेगा।

Ration Card

इन तीन राज्यों में नहीं मिलेगा गेहूं

गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मई से सितंबर तक आवंटित होने वाले गेहूं के कोटे को मोदी सरकार ने घटाया है। सरकार के इस बदलाव के बाद उत्तर प्रदेश, बिहार और केरल में मुफ्त वितरण के लिए गेहूं नहीं दिया जाएगा। वहीं, राजधानी दिल्ली, गुजरात, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल के गेहूं के कोटे में कमी की गई है। इन राज्यों के कार्ड धारकों को गेहूं कम और चावल ज्यादा मात्रा में दिया जाएगा। हालांकि बाकी राज्यों में अभी किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है।

Ration Card

गेहूं की कम खरीद बना कारण?

यूपी-बिहार जैसे राज्यों में गेहूं के आवंटन को फिलहाल खत्म करने का कारण गेहूं की कम खरीद को माना जा रहा है। खाद्य सचिव सुधांशु पांडे ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस दौरान करीब 55 लाख मीट्रिक टन चावल का अतिरिक्त आवंटन किया जाएगा। राशन वितरण में किया गया ये बदलाव केवल पीएमजीकेएवाई (PMGKAY) के लिए है। इसका असर ये होगा कि कुछ एक राज्यों में गेहूं की अपेक्षा में चावल ज्यादा दिया जाएगा।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement
Advertisement