Economy: कोरोना काल में अर्थव्यवस्था को लेकर IMF ने दी अच्छी खबर, अगले साल भारत होगा चीन से आगे

Economy: IMF ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि, ‘‘इसके परिणामस्वरूप अर्थव्यवस्था(Eeconomy) के 2020 में 10.3 प्रतिशत घटने का अनुमान है जबकि 2021 में इसमें 8.8 प्रतिशत वृद्धि के साथ बड़ा उछाल आयेगा।’’

Written by: October 14, 2020 10:19 am
Indian Economy

नई दिल्ली। कोरोना काल में गिरती अर्थव्यवस्था के बीच अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने एक भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर अच्छी खबर दी है। कोरोनावायरस से वैसे तो पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है, इसी को ध्यान में रखते हुए IMF ने बताया है कि इस वर्ष के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.3 प्रतिशत की बड़ी गिरावट आने का अनुमान है। लेकिन इसके साथ ही IMF एक खुशखबरी भी दी है। संस्था का कहना है कि, 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था में संभवत: 8.8 प्रतिशत की जोरदार बढ़त दर्ज की जायेगी और वह चीन से आगे निकल जाएगी।IMF ने कहा कि, भारत उभरती अर्थव्यवस्था का दर्जा फिर से हासिल कर लेगा। वहीं चीन के 2021 में 8.2 प्रतिशत वृद्धि हासिल करने का अनुमान है। इसको लेकर भारतीय डिप्लोमैट सैयद अकबरुद्दीन ने भी आईएमएफ के इस अनुमान को लेकर एक ट्वीट भी किया है। ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि भारत के लिए अगला साल काफी बेहतर होगा।

बता दें कि साल 2020 के दौरान दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में केवल चीन ही एकमात्र देश होगा जिसमें 1.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जायेगी। आईएमएफ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आर्थिक गतिविधियों के मामले में अनुमान में संशोधन भारत के मामले में बड़ा है जहां सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में दूसरी तिमाही (अप्रैल- जून, भारत के वित्त वर्ष के मुताबिक पहली तिमाही) के दौरान अनुमान से कहीं बड़ी गिरावट रही है।

China Share market Economy

IMF ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि, ‘‘इसके परिणामस्वरूप अर्थव्यवसथा के 2020 में 10.3 प्रतिशत घटने का अनुमान है जबकि 2021 में इसमें 8.8 प्रतिशत वृद्धि के साथ बड़ा उछाल आयेगा।’’ इससे पहले 2019 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत रही। आईएमएफ के मुताबिक भारत जलवायु परिवर्तन से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले देशों में शामिल है। यह इसके शुरुआती उच्च तापमान को परिलक्षित करता है। पिछले सप्ताह विश्व बैंक ने कहा कि भारत की जीडीपी इस वित्त वर्ष में 9.6 प्रतिशत घटेगी। विश्व बैंक ने दक्षिण एशिया आर्थिक रिपोर्ट में यह अनुमान व्यक्त किया।

Support Newsroompost
Support Newsroompost