Connect with us

बिजनेस

इस वजह से आई RBL बैंक के शेयर में गिरावट, RBI ने बयान जारी कर कही ये बात  

RBL BANK :मिली जानकारी के मुताबिक, बैंक के शेयर में 20 फीसद तक की गिरावट दर्ज की गई है। यह अपने 52 हफ्ते के अपने सबसे न्यूनतम पायदान पर पहुंच चुका है। बता दें कि विगत 25 दिसंबर को ही आरबीएल बैंक के बोर्ड ने विश्वाजीत आहूजा के सीईओ के पद से इस्तीफा को स्वीकार कर लिया था।

Published

on

RBL bank

नई दिल्ली।  कोरोना काल में जिस तरह से आर्थिक गतिविधियां शिथिल हुई हैं, उसे ध्यान में रखते हुए सभी के जेहन में यह जानने की आतुरता अपने चरम पर रहती है कि आखिर बाजार में कब कैसी स्थिति है। कुल मिलाकर यह कहना सहज ही होगा कि कोरोना काल में सभी वित्तीय संस्थानों की आर्थिक हालात कुल मिलाकर चौपट ही हो रखी है। हालांकि, बीते दिनों केंद्र सरकार की तरफ से मिली रियायतों के नतीजतन आर्थिक बाजार की हालत में काफी सुधार देखने को मिली, लेकिन आर्थिक चुनौतियां अभी-भी जस की तस बरकरार हैं। अब इसी बीच बड़ी खबर आरबीएल बैंक को लेकर सामने आई है। खबर है कि आईबीएल बैंक के शेयर में  लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है, जिससे बैंक में पेसा लगाने वाले निवेशक हलकान में है। बताया जा रहा है कि जब बैंक में सीईओ के पदभार ग्रहण करने और आरबीआई की तरफ से किए जा रहे हस्तक्षेप के बाद से बैंक के शेयर में गिरावट दर्ज की जा रही है।

RBL

मिली जानकारी के मुताबिक, बैंक के शेयर में 20 फीसद तक की गिरावट दर्ज की गई है। यह अपने 52 हफ्ते के अपने सबसे न्यूनतम पायदान पर पहुंच चुका है। बता दें कि विगत 25 दिसंबर को ही आरबीएल बैंक के बोर्ड ने विश्वाजीत आहूजा के सीईओ के पद से इस्तीफा को स्वीकार कर लिया था। जिसके बाद से राजीव आहूजा को सीईओ के पद की जिम्मेदारी सौंप दी गई। जिसके बाद से ही लगातार बैंक के शेयर में गिरावट का दौर शुरू हो चुका है। अब ऐसे में आगे चलकर बैंक के शेयर में क्या कुछ स्थिति देखने को मिलती है। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त  ही बताएगा। इसके अलावा आरबीआई के चीफ जनरल पद पर आसीन रहे योगेश दयाल को एडिशनल डॉयरेक्टर के पद पर नियुक्ति की गई थी।

rblbank

बैंक की आर्थिक दशा

वहीं, अगर बैंक के आर्थिक दशा की बात करें, तो कोरोना के चलते बैंक के रिटेल सेंगमेंट और माइक्रो लैंडिग की वजह से एनपीए बढ़ा है। क्रेडिट सेंगेमेंट भी बैंक का एनपीए बढ़ा है। जिसे लेकर बैंक की स्थिति को लेकर चिंता गहराई हुई है। वहीं, माना जा रहा है कि आरबीआई के हस्तक्षेप के बाद बैंक के शेयर में गिरावट आई है, लेकिन कुछ आर्थिक विशेलेषकों का ऐसा भी मानना है कि आरबीआई के हस्तक्षेप के बाद आगामी दिनों में बैंक के शेयर के दरों में इजाफा दर्ज किया जा सकता है। लेकिन उससे पहले खबर है कि शेयर मार्केट के बिग बुल राकेश झुनझुनवाला और डी-मार्ट के फाउंडर आर के दमानी आरबीएल बैंक में हिस्सेदारी खरीद सकते हैं। इसके लिए उन्होंने आरबीआई से अनुमति मांग ली है। लेकिन झुनझुनवाला ने खुद ऐसी खबरों को सिरे से खारिज किया है। वहीं, आरबीआई ने आरबीएल बैंक की आर्थिक स्थिति पर बयान जारी कर कहा कि बैंक की स्थिति पूरी तरह स्थिर है। हां… थोड़ा-बहुत उतार-चढ़ाव का सिलसिला जारी है, लेकिन कुछ दिनों बाद दुरूस्त हो जाएगा, लिहाजा बैंक से जुड़े किसी वित्तीय हितधारकों को घबराने की जरूरत नहीं है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement
Advertisement