Connect with us

बिजनेस

ABG Group Bank Fraud Case: कंपनी के CMD ऋषि अग्रवाल को 4 दिन की CBI कस्टडी में भेजा गया

ABG Group Bank Fraud Case: आपको बता दें कि एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड कंपनी के प्रमोटर ऋषि अग्रवाल पर आरोप है कि उन्होंने साल 2005 से साल 2012 के बीच में 28 बैंकों को करीब 22 हजार करोड़ का चूना लगाया था। जिसमें ICICI, एसबीआई, आईडीबीआई, बैंक ऑफ बड़ोदा, पीएनबी जैसे बड़े बैंकों के साथ धोखाधड़ी की। इसे अब तक का सबसे बड़ा बैंक फ्रांड माना जा रहा है। 

Published

on

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े घोटाले मामले में एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड (ABG Group Bank Fraud Case) के पूर्व अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (CMD) ऋषि अग्रवाल को बुधवार को सीबीआई ने शिकंजा कसते हुए गिरफ्तार कर लिया था। सीबीआई ने ऋषि अग्रवाल को 22,842 करोड़ रुपये की कथित बैंक धोखाधड़ी के केस में गिरफ्तार किया था। केंद्रीय जांच एजेंसी ने ऋषि अग्रवाल पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है। जिसके बाद उन्हें बीते दिन धर दबोच लिया गया। इसी बीच अब ऋषि अग्रवाल को लेकर एक बड़ी जानकारी सामने आ रही है। उन्हें अब 4 दिन की सीबीआई कस्टडी में भेज दिया गया है यानी कि ऋषि अग्रवाल की रातें अभी भी सीबीआई की कस्टडी में ही कटेगी।

आपको बता दें कि एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड कंपनी के प्रमोटर ऋषि अग्रवाल पर आरोप है कि उन्होंने साल 2005 से साल 2012 के बीच में 28 बैंकों को करीब 22 हजार करोड़ का चूना लगाया था। जिसमें ICICI, एसबीआई, आईडीबीआई, बैंक ऑफ बड़ोदा, पीएनबी जैसे बड़े बैंकों के साथ धोखाधड़ी की। इसे अब तक का सबसे बड़ा बैंक फ्रांड माना जा रहा है।

CBI Raid

जानिए कब मामला प्रकाश में आया?

एबीजी शिपयार्ड का घोटाला उस वक्त प्रकाश में आया था, जब ईएंडवार्ड ने इसकी जांच की थी। बता दें कि इस मामले की 2021 से 2017 के बीच फॉरेंसिक जांच की गई थी। जांच में यह तथ्य प्रकाश में आया था कि कंपनी ने मामले में घोटाले की वारदात को अंजाम दिया था। जिसमें यह पाया गया था कि बैंक से कर्ज लेकर उस पैसे का अनुचित प्रयोग किया गया था। इतना ही नहीं, इस पूरी प्रक्रिया से अर्जित किए गए रकम से विदेश में संपत्ति भी अर्जित की गई थी।

Advertisement
Advertisement
Advertisement