Connect with us

मनोरंजन

Aamir Khan: आमिर खान के साथी ही आमिर को नहीं समझते थे “एक्टर” और वो खुद सोचते थे “उनकी फिल्म देखेगा कौन”

Aamir Khan: अब Aamir Khan एक और फिल्म में दिखने वाले हैं। जिसका नाम सलाम वेंकी (Salaam Venky) है। उनकी ये फिल्म में काजोल (Kajol) के साथ दिखेंगे, जिसमें आमिर का कोई खास रोल नहीं है पर ये फिल्म 9 दिसंबर को रिलीज़ होने के लिए तैयार है। यहां हम आमिर खान के इस इंटरव्यू से जुड़ी बात करेंगे।

Published

नई दिल्ली। आमिर खान (Aamir Khan) जिनकी फिल्म लाल सिंह चड्ढा (Laal Singh Chaddha) बुरी तरह से फ्लॉप हुई है। फ़िलहाल वो खबरों में खूब चल रहे हैं। हाल ही में एक इंटरव्यू में आमिर खान अपने अतीत को लेकर रोने भी लगे थे। आमिर खान ने इस लेटेस्ट इंटरव्यू में काफी बातें की जहां पर उन्होने अपने बचपन की यादें ताजा की और बताया कि कैसे उन्होंने अपने एक्टिंग के करियर को चुना। उन्होंने इस इंटरव्यू में ये भी बताया कैसे उन्होंने बहुत सी फिल्म को करने से मना कर दिया। कैसे वो अब बिना लॉजिक के फिल्म को चुनते हैं और करते हैं। उन्होंने खुद बताया की वो कोई पर्फेक्टनिष्ट नहीं हैं। आमिर खान वो कलाकार हैं जिनकी पिछली फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से फ्लॉप हुई है। अब वो एक और फिल्म में दिखने वाले हैं। जिसका नाम सलाम वेंकी (Salaam Venky) है। उनकी ये फिल्म में काजोल (Kajol) के साथ दिखेंगे, जिसमें आमिर का कोई खास रोल नहीं है पर ये फिल्म 9 दिसंबर को रिलीज़ होने के लिए तैयार है। यहां हम आमिर खान के इस इंटरव्यू से जुड़ी बात करेंगे।

आमिर खान ने इस इंटरव्यू में ये भी बताया कि कैसे एक समय था जब उनके दोस्त उन्हें कुछ नहीं समझते थे। आमिर खान के दोस्त आमिर को अच्छा एक्टर भी नहीं मानते थे। उन्होंने बताया कि वो बहुत शर्माते थे और ज्यादा किसी से बात नहीं करते थे। जिसके कारण लोग उन्हें कहते थे कि ये कभी भी एक्टर नहीं बन पाएगा। लेकिन इसमें भी आमिर अपनी तारीफ करते रहे और उन्होंने बताया कि उनके अंदर वो एनर्जी थी और उन्हें पता था कि उन्हें कैसे शॉट देना है।

आमिर ने अपनी तारीफ में ये भी कहा कि वो बहुत रिअलिस्टिक हैं और वो अपनी फिल्मों में गलतियों का अंदाज़ा बहुत जल्दी लगा लेते हैं। उनकी फिल्म अगर अच्छी नहीं लग रही होती है तो इसका अंदाज़ा उन्हें हो जाता है और वो समझ जाते हैं कि उनकी ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर काम नहीं करेगी या दर्शकों को पसंद नहीं आएगी। यहां पर एक बड़ा सवाल उठता है कि अगर आमिर खान इतने रीयलिस्टिक हैं, अगर वो अपनी फिल्मों में काम करते वक़्त तय कर लेते हैं कि कौन सी फिल्म अच्छी है और कौन सी बुरी। तो फिर लाल सिंह चड्ढा के रिलीज़ के वक़्त उनसे कहां गलती हो गई, क्योंकि उस फिल्म को तो दर्शकों ने बिलकुल भी पसंद नहीं किया।

इसके अलावा आमिर खान ने अपनी पुरानी फिल्मों का जिक्र करते हुए बताया कि पहले जब वो फिल्म करते थे तो वो यही सोचते थे कि हमारी फिल्में देखेगा कौन। क्योंकि वो दर्शकों के हिसाब से फिल्मों का निर्माण नहीं कर रहे थे। आमिर खान खुद अपने काम को अपने करियर के शुरूआती दिनों में औसत दर्ज़े का समझते थे और उन्हें अपना काम उतना पसंद नहीं आता था। एक बात यहां गौर करने वाली है कि इसी इंटरव्यू में एक जगह आमिर कहते हैं कि उन्हें लगता था कि वो एक अच्छे एक्टर हैं और इसी इंटरव्यू में वो एक जगह बोल रहे हैं कि उन्हें अपना काम अच्छा नहीं लगता था।

इन सभी बातों से ऐसा लग रहा है कि आमिर खान जो काम कर रहे हैं या जो फिल्में कर रहे हैं उसमें एक निश्चित बात नहीं कर रहे हैं और वही उनकी फिल्म में भी देखने को मिल रहा है। एक निश्चित कहानी जो दर्शकों को जोड़ती है दर्शकों को पसंद आती है वो उनकी फिल्म में देखने को नहीं मिल रहा है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement