Kangana Ranaut: दिल्ली असेंबली के पैनल ने कंगना रनौत को भेजा समन, सिखों को बताया था खालिस्तानी आतंकवादी

Kangana Ranaut:अभिनेत्री कंगना रनौत को दिल्ली विधानसभा की शांति और सद्भाव समिति की तरफ से समन जारी किया गया है। समन के अनुसार, कंगना को 6 दिसंबर को दोपहर 12:00 बजे समिति के सामने पेश होना है। बता दें, मोदी सरकार के कृषि कानूनों को वापस लेने के ऐलान के बाद कंगना रनौत ने किसान आंदोलन की तुलना खालिस्तानी आंदोलन से की थी।

Written by: November 25, 2021 1:10 pm

नई दिल्ली। अभिनेत्री कंगना रनौत को दिल्ली विधानसभा की शांति और सद्भाव समिति की तरफ से समन जारी किया गया है। समन के अनुसार, कंगना को 6 दिसंबर को दोपहर 12:00 बजे समिति के सामने पेश होना है। बता दें, मोदी सरकार के कृषि कानूनों को वापस लेने के ऐलान के बाद कंगना रनौत ने किसान आंदोलन की तुलना खालिस्तानी आंदोलन से की थी। कंगना के इस बयान के बाद से ही देश के अलग अलग इलाकों में उनके खिलाफ कई एफआईआर दर्ज की गई हैं।

kangna Ranuat

सिख समुदाय की भावना को किया गया आहत

बता दें कि समिति की ओर से एक बयान जारी किया गया है जिसके मुताबिक कंगना के खिलाफ यह शिकायत मंदिर मार्ग थाने के साइबर ऑफिस में दर्ज करवाई गई है। इस समिति का यह भी कहना है कि सोशल मीडिया पर किए गए पोस्ट में एक्ट्रेस ने ‘जानबूझकर’ किसानों के प्रदर्शन को ‘खालिस्तानी आंदोलन’ बताया। बयान में यह बात भी कही गई है कि अभिनेत्री ने सिख समुदाय के खिलाफ ‘आपत्तिजनक और अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति की ओर से जारी किए गए बयान के मुताबिक सिख समुदाय की भावनाओं को आहत करने के लिए जानबूझकर वह पोस्ट तैयार किया गया और आपराधिक मंशा से उसे सोशल मीडिया में फैलाया गया है।

kangana3

ट्विटर पर बंद किया गया अकाउंट

गौरतलब है कि बीते कुछ महीने पहले ही एक्ट्रेस कंगना रनौत ने कथित तौर पर पश्चिम बंगाल में बीजेपी पर ममता बनर्जी नीत तृणमूल कांग्रेस की जीत और चुनाव बाद हिंसा को लेकर कई तरह के पोस्ट शेयर किए थे। कंगना ने उस समय प्रदेश में राष्ट्रपति शासन की मांग करते हुए अभिनेत्री ने हिंसा के लिए बनर्जी को कसूरवार ठहराया था और उन्हें ऐसे नामों से संबोधित भी किया था, जिन्हे प्रकाशित नहीं जा सकता। कंगना रनौत ने इस दौरान ट्वीट करते हुए लिखा था कि ‘यह भयानक है। गुंडई को खत्म करने के लिए हमें सुपर गुंडई की जरूरत है। वह (ममता बनर्जी) एक छुट्टा राक्षस की तरह है, उसे वश में करने के लिए मोदी जी, प्लीज आप साल 2000 की शुरुआत वाला रूप दिखाएं।’

Support Newsroompost
Support Newsroompost