Connect with us

मनोरंजन

Boycott Laal Singh Chaddha: फिल्मों में हिन्दू धर्म का मजाक बनाने वाले Aamir Khan क्या इस बार सिख समुदाय को निशाना बना रहे हैं

Boycott Laal Singh Chaddha: फिल्मों में हिन्दू धर्म का मजाक बनाने वाले Aamir Khan क्या इस बार सिख समुदाय को निशाना बना रहे हैं फिल्म को लेकर सिख समुदाय (Sikh Community) भी मुखर होकर बहिष्कार करने की मांग कर रहा है यहां हम जानेगें की आखिर क्यों आमिर खान की फिल्म का हिन्दू और सिख समुदाय इतने जोर से बहिष्कार हो रहा है।

Published

on

नई दिल्ली। आमिर खान (Aamir Khan) की लाल सिंह चड्ढा (Laal Singh Chaddha) को रिलीज़ होने में कुछ ही दिन बचे हैं। लगातार हिन्दू धर्म (Hindu Dharma) के खिलाफ और भारत देश के खिलाफ बोलने वाले आमिर, संभावना है इस बार भी विवादित विषय पर फिल्म ला सकते हैं। इस कारण से ज्यादातर लोगो के द्वारा फिल्म को बहिष्कार (#Boycottlaalsinghchaddha) करने की मांग चल रही है। लगातार ट्वीटर पर बॉयकॉट लाल सिंह चड्ढा ऐसे चल रहा है जैसे मानों हिन्दू धर्म के लोगों ने, हाथों में हाथ थामकर फिल्म को फ्लॉप करने की रणनीति बना ली हो। फिल्मों को लेकर हिन्दू इस तरह सजग हो गया है की वो अब हिन्दू संस्कृति (Hindu Culture) और भारतीय संस्कृति (Indian Culture) पर कुछ भी विवादित सुनना नहीं चाहता है। फिल्म को लेकर सिख समुदाय (Sikh Community) भी मुखर होकर बहिष्कार करने की मांग कर रहा है यहां हम जानेगें की आखिर क्यों आमिर खान की फिल्म का हिन्दू और सिख समुदाय इतने जोर से बहिष्कार हो रहा है।

आपको बात दें, हाल ही हुए में एक इंटरव्यू में आमिर ने फिल्म में सिख किरदार के बारे में बताया है। उन्होंने कहा की वो सिख किरदार (Sikh Character In Laal Singh Chaddha Film) के माध्यम से 1983 और 1984 का समय दिखाना चाहते हैं। ऐसे में सवाल बनता है -क्या आमिर दुखती नब्ज़ पर दोबारा से चोट मारना चाहते हैं ? क्या वो सिख धर्म समुदाय या फिर हिन्दू धर्म समुदाय के खिलाफ बोलना चाहते हैं ? या फिर वो संस्कृति और मौजूदा राजनीतिक परिपेक्ष्य (Contemprary Politics) पर तीखा हमला करना चाहते हैं। क्योंकि बहुत से समीक्षाकारों (Critics) का मानना है, जो आमिर खान हमेशा अपनी फिल्म से हिन्दू विरोधी (Anti Hindu), हिन्दू सरकार विरोधी (Anti Hindu Government) और भारत विरोधी हमला (Anti India) करते हैं| ऐसे में वो जरूर इस फिल्म के माध्यम से भी कुछ ऐसी बात कहने का प्रयास जरूर करेंगे। अब ऐसे में आमिर खान की फिल्म का क्या हश्र होता है वक़्त बताएगा पर इस समय सभी ने मिलकर फिल्म को बॉयकॉट करने का मन बना लिया है।

हम सब जानते हैं हिन्दू और सिख समुदाय एक दूसरे से अलग नहीं है, सब एक ही हैं। बस दिक्क्त ये है की सब बंटे हुए थे, लेकिन आज सब एक हो गए हैं। आज न हिन्दू, सिख धर्म के खिलाफ सुनने को तैयार है और न सिख, हिन्दू धर्म के खिलाफ सुनने को कुछ तैयार है। फिल्म लाल सिंह चड्ढा में आमिर खान एक सिख का किरदार निभा रहे हैं। जिसको लेकर सिख लोगों ने भी फिल्म का बहिष्कार करने का मन बना लिया है। हमने पहले ही देखा था फिल्म के ट्रेलर के आने के बाद सिख समुदाय की तरफ से वीडियो आने लगे थे जिसमें वो आमिर खान को गलत ठहरा रहे थे और उनकी फिल्म को बहिष्कार करने की मांग कर रहे थे। इस दौरान देखने को यह भी मिला की पंजाब से टिकट की एडवांस बुकिंग अन्य राज्यों की अपेक्षा कम हुई है। जबकि आमिर खान एक सिख का किरदार निभा रहे हैं।

आखिर क्या वजह है की आमिर खान पर आज सिख समुदाय भी यक़ीन नहीं कर रहा है। इसका एक साधारण सा कारण है क्योंकि जो आमिर खान लगातार हिन्दू धर्म का मजाक उड़ाते हैं वो अपनी फिल्म में सिख धर्म का भी मजाक उड़ा सकते हैं। इसके अलावा कई सरदार भाइयों का मानना है की भारत देश और देवी देवताओं का मजाक अब हिन्दुस्तान नहीं सहेगा और मिलकर ऐसी फिल्मों का बॉयकॉट करेगा जो भारत विरोधी और हिन्दू धर्म विरोधी हैं।

इसके अलावा कई सिख लोगों का यह भी कहना है की आमिर खान फिल्म में पंजाबी किरदार तो निभा रहे हैं पर उन्हें पंजाबी बोली बोलना बिल्कुल भी नहीं आ रहा है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement