Connect with us

मनोरंजन

Tanaav Web Series On OTT: “तनाव” वेब सीरीज में काम कर रहे सलमान खान के भाई अरबाज़ खान ने लोगों को बताया असहिष्णु

Tanaav Web Series On OTT: ऐसे में इस सीरीज के प्रमोशन के दौरान अरबाज़ खान ने लोगों को असहिष्णु बताया है। क्या कुछ कहा है उन्होंने यहां हम आपको यही बताएंगे।

Published

नई दिल्ली। तनाव वेब सीरीज (Tanaav Web Series) सोनी लिव (Sony Liv) पर रिलीज़ हुई है। कश्मीर पर आधारित इस वेब सीरीज में सलमान खान (Salman Khan) के भाई अरबाज़ खान (Arbaaz Khan), रजत कपूर (Rajat Kapoor) और मानव विज (Manav Vij) जैसे तमाम कलाकारों ने काम किया है। क्रिटिक की तरफ से तनाव वेब सीरीज की प्रशंसा की जा रही है। बेहद संवेदनशील मुद्दे पर बनी वेब सीरीज तनाव, इस समय लोगों के बीच काफी पॉपुलर है। कई लोग इस वेब सीरीज की चर्चा कर रहे हैं और लोगों से देखने के लिए भी कह रहे हैं। हालांकि अभी इसके सिर्फ 6 एपिसोड को रिलीज़ किया गया है और 6 एपिसोड रिलीज़ होने के लिए बाकी हैं। तनाव को सुधीर मिश्रा ने निर्देशित किया है। जाहिर है कि वेब सीरीज आई है तो प्रमोशन भी होगा। ऐसे में इस सीरीज के प्रमोशन के दौरान अरबाज़ खान ने लोगों को असहिष्णु बताया है। क्या कुछ कहा है उन्होंने यहां हम आपको यही बताएंगे।

तनाव सीरीज के प्रमोशन के चलते अरबाज़ खान ने एंटरटेनमेंट वेबसाइट बॉलीवुड हंगामा को इंटरव्यू दिया है। जहां उन्होंने फिल्म के बारे में बात करते करते भारतीय लोगों को असहिष्णु बताया है। बॉलीवुड हंगामा के द्वारा जब पूछा गया कि जब हम किसी संवेदनशील मुद्दे पर कोई फिल्म बनाते हैं, जैसे कश्मीर एक संवेदनशील मुद्दा है और आपकी सीरीज उसी पर है तो क्या आप ये ध्यान में रखते हैं कि लोग, सीरीज में दिखाई गई किसी बात से अपसेट हो सकते हैं और उनकी भावना को कष्ट पहुंच सकता है।

उपरोक्त प्रश्न का जवाब देते हुए अरबाज़ खान ने कहा,“लोग आपकी किसी भी बात से अपसेट हो सकते हैं। वो आपकी किसी भी बात का बुरा मान जाते हैं। आप किसी की तरह दिखते हो, आप कुछ कहते हो या फिर आप कुछ ट्वीट करते हो उन्हें फौरन बुरा लग जाता है, वो व्याकुल हो जाते हैं, अपसेट हो जाते हैं। कश्मीर एक संवेदनशील मुद्दा है और उसे बनाते वक़्त ध्यान रखना चाहिए कि आप इस परिस्थिति को कैसे संभालेंगे।” इसके बाद आगे उन्होंने कहा कि उन्हें आजकल के माहौल से बड़ी परेशानी है जहां लोग किसी भी बात से बुरा मान जाते हैं। व्यक्तियों के तौर पर हम कुछ ज्यादा असहिष्णु होते जा रहे हैं, और लोगों को माफ़ नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा माहौल बड़ा तनावग्रस्त है जहां आप अपनी बात नहीं कह सकते, आप किसी बात पर गुस्सा ज़ाहिर नहीं कर सकते और गलती नहीं कर सकते। किसी ने कुछ कह दिया तो उसको पूरी तरह से बहिष्कार कर देना गलत है क्योंकि उससे किसी की जिंदगी पर बात आ जाती है।

अरबाज़ खान का ये बयान कितना गलत और कितना सही है ये दर्शक ही तय करेंगे। लेकिन यहां ये सवाल तो उठता है कि क्या एक एक्टर और एक फिल्ममेकर की जवाबदेही जनता के प्रति नहीं होनी चाहिए। अगर जवाबदेही जनता के प्रति बनती है फिर उस फिल्मकार और उस कलाकार को ध्यान रखना होगा उसकी बात से किसी को कष्ट न पहुंचे। ऐसा भी नहीं है कि किसी भी बात से भारत की जनता नाराज़ हो जाती है लेकिन जब कोई बात लोगों को बुरी लगती है तो वो अपना विरोध खुलकर सामने रखते हैं। ऐसे में बॉलीवुड (Bollywood) वालों को कष्ट क्यों है पता नहीं। बॉलीवुड वालों के इस बयान से जाहिर तो यही होता है कि वो कुछ भी कहें, बोलें और करें लेकिन दर्शक अपनी नाराज़गी जाहिर न करें।

Advertisement
Advertisement
Advertisement