दिल्ली हिंसा में क्राइम ब्रांच को मिली एक और सफलता, जानिए कौन चढ़ा पुलिस के हत्थे

उत्तर पूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को हुए दंगों के मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की एसआईटी ने एक हत्यारोपी को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया।

Written by: March 7, 2020 4:04 pm

नई दिल्ली। उत्तर पूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को हुए दंगों के मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की एसआईटी ने एक हत्यारोपी को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार आरोपी का नाम मो. शाहनवाज उर्फ शानू (27) है। आरोपी ने दंगों के दौरान बेखौफ होकर शिव विहार तिराहे पर तांडव मचाया था। उसने कई दुकानों में आग लगा दी थी। शानू पर एक शख्स को जिंदा जलाकर मार डालने का भी आरोप है।

दिल्ली पुलिस अपराध शाखा के एक अधिकारी के मुताबिक, “गिरफ्तार आरोपी के खिलाफ गोकुलपुरी थाने में 28 फरवरी, 2020 को कई धाराओं में आपराधिक मामले दर्ज किए गए थे। शानू के खिलाफ दंगा करने, दंगे का षड्यंत्र रचने, हत्या, धार्मिक भावनाओं को भड़काने, संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की धाराओं में थाना गोकुलपुरी में केस दर्ज किया गया था।”

delhi police west delhi

दंगों के जांच के लिए गठित एसआईटी टीम के एक अधिकारी ने शनिवार को आईएएनएस से कहा, “24 फरवरी को ओल्ड मुस्तफाबाद और शिव विहार तिराहे पर हुए तांडव में सबसे आगे पथराव करता हुआ शाहनवाज ही दिखाई दे रहा था। वह भीड़ को चीख-चीख कर पथराव और आगजनी करने के लिए उकसा रहा था। उसे खुद भी जबरदस्त तरीके से पथराव करते देखा गया। आरोपी ने कई मकानों और दुकानों को भी आग लगा दी थी।”

delhi_violancedelhi_violance

शाहनवाज शिव विहार की गली नंबर-22 का रहने वाला है। सीसीटीवी फूटेज से जांच कर रही अपराध शाखा को साफ-साफ पता चल गया है कि किताबों की एक दुकान और मिठाई दुकान के गोदाम में घुसकर आग भी शाहनवाज ने ही लगाई थी। शाहनवाज के साथ सैकड़ों और दंगाइयों की भीड़ मौजूद थी।

delhi violence

अपराध शाखा की एसआईटी के मुताबिक, “26 फरवरी, 2020 को चमन पार्क स्थित एक दुकान के भीतर से जली हुई हालत में शव मिला था। बाद में शव की पहचान दिलबर सिंह के रूप में हुई थी। पता चला है कि दिलबर की हत्या करने में भी शाहनवाज का ही हाथ है। शाहनवाज को गिरफ्तार करने से पहले एसआईटी टीम ने चश्मदीदों से उसकी पहचान करा ली थी। उसी के बाद उसे कानूनी तौर पर गिरफ्तार किया है।”