Jammu & Kashmir: शेहला राशिद के पिता का आरोप, देश विरोधी गतिविधियों में शामिल है मेरी बेटी, मुझे दे रही जान से मारने की धमकी

Jammu & Kashmir: अपनी शिकायत में अब्दुल रशीद (Abdul Rashid Shora) ने शेहला राशिद (Shehla Rashid) के खिलाफ जांच की मांग की है। अब्दुल ने डीजीपी, जम्मू और कश्मीर पुलिस को एक लिखित शिकायत में कहा कि वह अपनी बेटी से मौत के खतरों का सामना कर रहे हैं क्योंकि उनकी बेटी द्वारा उन्हें जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

Avatar Written by: November 30, 2020 8:30 pm
Shehla Rashid

नई दिल्ली। पूर्व जेएनयू छात्र नेता और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट के पूर्व महासचिव शेहला राशिद के पिता अब्दुल रशीद शोरा ने अपनी बेटी पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया है कि उनकी बेटी देश के खिलाफ गतिविधियों में शामिल लोगों के साथ मिलकर एक पार्टी बना चुकी है और उसको देश के खिलाफ गतिविधियों में शामिल होने के लिए 3 करोड़ रुपए के रकम की भी पेशकश की गई। जम्मू-कश्मीर से चलनेवाली एक न्यूज पोर्टल पर शेहला रशीद के पिता ने यह दावा साफ तौर पर किया है। जेके न्यूज वायर नाम के इस खबरिया न्यूज पोर्टल पर अब्दुल रशीद शोरा का वीडियो भी है जिसमें उन्होंने इन सारी बातों का खुलासा किया है। अब्दुल शोरा ने शेहला राशिद पर आरोप लगाते हुए इतना तक कह दिया कि उनकी बेटी देश के खिलाफ कुख्यात गतिविधियों में शामिल है। और साथ ही उन्होंने कहा कि मेरे घर में राष्ट्र विरोधी गतिविधियां चल रही हैं।

अपनी शिकायत में अब्दुल रशीद ने शेहला राशिद के खिलाफ जांच की मांग की है। अब्दुल ने डीजीपी, जम्मू और कश्मीर पुलिस को एक लिखित शिकायत में कहा कि वह अपनी बेटी से मौत के खतरों का सामना कर रहे हैं क्योंकि उनकी बेटी द्वारा उन्हें जान से मारने की धमकी दी जा रही है। इसके साथ ही उन्होंने डीजीपी से अपनी सुरक्षा की गुहार भी लगाई है। अब्दुल रशीद ने डीजीपी को लिखे पत्र में दावा किया है कि शेहला के साथ ही उनकी बड़ी बेटी अस्मा रशीद, उनकी पत्नी जुबेदा शोरा और सुरक्षा गार्डों में से एक साकिब अहमद भी इस पूरे मामले में शामिल हैं।

अब्दुल रशीद ने दावा किया है कि यूएपीए के तहत टेरर फंडिंग मामले में ज़हूर वटाली की गिरफ्तारी से ठीक दो महीने पहले, जून 2017 में श्रीनगर के सनत नगर में वटाली के निवास पर ज़हूर वटाली और रशीद इंजीनियर (पूर्व विधायक) द्वारा एक बैठक के लिए उन्हें बुलाया गया था। उस समय शेहला समाजशास्त्र में अपनी पीएचडी के अंतिम सेमेस्टर में थीं, जब हम मिले तो उन्होंने मेरे सामने जेकेपीएम पार्टी के लॉन्च का खुलासा किया और मुझसे इस योजना में शेहला राशिद को शामिल करने के लिए सहयोग देने का आग्रह किया।

father of Shehla Rashid

उन्होंने मुझे यह तक कहा कि इस संगठन में शामिल होने के लिए शेहला राशिद के लिए उन्होंने 3 करोड़ रुपये की रकम रखी है। जैसा कि मुझे लगा कि यह पैसा अवैध चैनलों से आ रहा है और गैरकानूनी गतिविधियों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। मैंने पैसे नहीं लिए और बाद में मेरी बेटी को इन लोगों के साथ किसी भी तरह के लेनदेन में लिप्त नहीं होने के लिए कहा। मेरे द्वारा इस बात का बार-बार विरोध करने के बाद भी मैंने अपनी पत्नी जुबेदा शोरा और बड़ी बेटी अस्मा राशिद को शेहला का समर्थन करते हुए पाया और इस सौदे के लिए एक और व्यक्ति सकीब अहमद के साथ वह सब इस पार्टी के साथ जुड़े। यह वही लड़का था जिसे शेहला ने मेरे सामने अपनी निजी सुरक्षा के लिए गार्ड के रूप में पेश किया गया था। वह अपने साथ पिस्तौल लेकर चलता था।


अब्दुल की मानें तो दिल्ली से ठीक एक हफ्ते के बाद जब शेहला श्रीनगर लौंटी तो उसने इस बात की पुष्टि कर दी कि उसे दिल्ली में संदर्भित राशि नकद में मिल गई है और मुझे इस लेन-देन के बारे में कुछ भी बताने की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके साथ ही उसने यह भी कहा कि रशीद इंजीनियर और ज़हीर वटाली के साथ मेरी मुलाकात का भी मैं जिक्र नहीं करूं क्योंकि इससे मेरी जान को खतरा हो सकता है। उसने मुझे यह भी बताया कि उसने पैसे स्वीकार कर लिए हैं और भविष्य में बहुत कुछ आने वाला है और इसलिए मुझे अपना मुंह बंद रखने की जरूरत है। एक चिंतित पिता के रूप में मैंने अपनी बेटियों के फैसले पर कड़ी आपत्ति जताई। इन कुख्यात लोगों के साथ देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के लिए आने वाले पैसे को लेकर भी मैंने उन्हें आगाह किया और इसके लिए मना भी किया।

अब्दुल आगे बताते नजर आते हैं कि मेरा दृढ़ विश्वास है कि मेरे घर में राष्ट्र-विरोधी गतिविधियां चल रही हैं, इस योजना में शामिल मेरी बेटियां, मेरी पत्नी और शेहला का सुरक्षाकर्मी अर्थात् साकिब अहमद है जिसने हाल ही में पिस्तौल दिखाकर मुझे धमकी दी थी। शेहला द्वारा साकिब और अन्य संदिग्ध व्यक्तियों को जिन्हें मेरे घर में रखा गया था का जब मैंने विरोध किया तो मुझे घर छोड़ने के लिए धमकी दी गई। इन गतिविधियों के खिलाफ मेरे सख्त रुख के कारण शेहला और उनकी मां ने मुझे घर से बाहर निकालने की साजिश रची।

शेहला राशिद ने भी ट्वीटर के जरिए अपने पिता पर लगाए हैं कई इल्जाम 

आप में से बहुत से लोग मेरे पिता द्वारा मेरे, मेरी मम्मी और बहन के खिलाफ आरोप लगाने का वीडियो देख रहे होंगे। इसके बारे में आपको साफ बता दें कि वह एक पत्नी को पीटने वाला, एक अपमानजनक, घटिया आदमी है। हमने आखिरकार उसके खिलाफ कार्रवाई करने का फैसला किया, और यह स्टंट उसी की प्रतिक्रिया है। यह कोई राजनीतिक मामला नहीं है, क्योंकि यह तब से चल रहा है जब से मैं होश में आई हूं। 2005 में मोहल्ला समिति से उन्हें पत्र भेजकर कहा था कि वह हमें गाली न दें। उन्होंने कभी अपने सपनों में नहीं सोचा था कि उसकी आज्ञाकारी पत्नी और डरपोक बेटियां कभी उसके खिलाफ बोलेंगी। चूंकि उन्हें माननीय न्यायालय द्वारा घर में प्रवेश करने से रोका गया था, इसलिए वे सस्ते स्टंट का सहारा लेकर न्यायिक प्रक्रिया को पटरी से उतारने की कोशिश कर रहे हैं। कोई न्याय के बारे में अंतहीन बात कर सकता है, लेकिन दान वास्तव में घर पर शुरू होता है। हमने अंततः गाली को चुपचाप सहन नहीं करने का फैसला किया है, क्योंकि चुप्पी केवल दुर्व्यवहारियों को गले लगाती है। यहां अदालत ने उसे 17-11-2020 के घर में प्रवेश करने से रोकने का आदेश दिया।

Support Newsroompost
Support Newsroompost