Connect with us

देश

राहुल गांधी के TWITTER हैंडल के मामले में कांग्रेस के झूठ की खुली कलई, बार-बार बदला बयान

Rahul Gandhi: दरअसल, राहुल गांधी और कांग्रेस ये झूठ बोलकर सियासी सहानुभूति पाने का एक रास्ता तलाश रहे थे, लेकिन ट्विटर का बयान इस रास्ते का रोड़ा बन गया। हुआ ये था कि बीते दिनों राहुल गांधी दिल्ली में नाबालिग के रेप और हत्या के मामले में उसके माता-पिता से मिले थे।

Published

on

Rahul Gandhi

नई दिल्ली। नई दिल्ली। राहुल गांधी के ट्विटर हैंडल के मामले में कांग्रेस ने शनिवार को बार-बार बयान बदला। पहले उसने कहा कि राहुल का ट्विटर हैंडल सस्पेंड कर दिया गया है। जब ट्विटर ने कहा कि ऐसा नहीं किया गया है, तो कांग्रेस की ओर से नया बयान आया। कांग्रेस कहने लगी कि सस्पेंड नहीं, राहुल का ट्विटर हैंडल अस्थायी तौर पर लॉक कर दिया गया है। जिस वक्त कांग्रेस ये दावा कर रही थी कि ट्विटर ने राहुल का हैंडल सस्पेंड कर दिया है, उस वक्त भी राहुल का हैंडल सभी को दिख रहा था। फिर कांग्रेस ने ये झूठ क्यों फैलाया ? इस सवाल का जवाब तो कांग्रेस ही दे सकती है। यह कितना बड़ा झूठ था, ये इसी से पता चलता है कि ट्विटर ने जैसे ही कहा कि राहुल का हैंडल सस्पेंड नहीं किया गया है, तो कांग्रेस ने इसे अस्थायी तौर पर लॉक होने की नई कहानी गढ़ ली। कांग्रेस कहने लगी कि हैंडल बहाल होने तक राहुल दूसरे प्लेटफॉर्म पर अपनी आवाज उठाते रहेंगे।

rahul gandhi

दरअसल, राहुल गांधी और कांग्रेस ये झूठ बोलकर सियासी सहानुभूति पाने का एक रास्ता तलाश रहे थे, लेकिन ट्विटर का बयान इस रास्ते का रोड़ा बन गया। हुआ ये था कि बीते दिनों राहुल गांधी दिल्ली में नाबालिग के रेप और हत्या के मामले में उसके माता-पिता से मिले थे। उनकी फोटो राहुल ने ट्विटर पर शेयर की थी। पॉक्सो एक्ट में रेप पीड़ित के परिवार की पहचान उजागर करना दंडनीय होता है। ऐसे में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने ट्विटर से राहुल के हैंडल के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए लिखा था। राहुल और कांग्रेस ने इसे सियासी मुद्दा बनाने की कोशिश की, लेकिन ट्विटर ने रंग में भंग डाल दिया।

ऐसे में कांग्रेस बार-बार बयान बदलकर राहुल को पीड़ित बताने की कोशिश करती रही। यहां तक कि राहुल के इंस्टाग्राम हैंडल से नीरज चोपड़ा और बजरंग पुनिया को ओलंपिक पदक की बधाई दी गई, लेकिन कांग्रेस ये नहीं बता पाई कि जब ट्विटर कह रहा है कि राहुल का हैंडल सस्पेंड नहीं हुआ, तो आखिर इसे अस्थायी तौर पर लॉक किसने किया ?

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement