Bihar Floor Test: नीतीश सरकार ने प्राप्त किया विश्वासमत, फेवर में आए 129 वोट, खिलाफ एक भी नहीं

Bihar Floor Test: जानकारी के लिए आपको बता दें कि इस विश्वासमत प्रस्ताव का विरोध करते हुए आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि 9 बार तो नीतीश सीएम बने, लेकिन एक ही कार्यकाल में तीन बार सीएम बनते कभी नहीं देखा। तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश पहले हमारे साथ थे। ऐसे में आरजेडी उनकी मां है।

Avatar Written by: February 12, 2024 2:55 pm

नई दिल्ली। बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव का साथ छोड़ राजद और जदयू का गठबंधन तोड़ने के बाद पूरे के पूरे सियासी हालात बदले हुए हैं। आपको बता दें कि हाल ही में RJD के साथ गठबंधन सरकार चला रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एनडीए का दामन थाम लिया था। उसके बाद वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह से जाकर भी दिल्ली मिले। आज बिहार में फ्लोर टेस्ट के दौरान नीतीश कुमार की सरकार ने पूर्ण विश्वास मत हासिल किया जिसमें उनके पक्ष में 129 वोट पड़े जबकि विपक्ष में एक भी वोट नहीं पड़ा।

Live Updates: 

बिहार के उपमुख्यमंत्री विजय कुमार सिन्हा ने कहा, “…हमने बिहार को अपराध और भ्रष्टाचार मुक्त बनाने का संकल्प लिया है…”

03:08 PM
बिहार फ्लोर टेस्ट: कांग्रेस विधायक ने क्या कहा?
कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान ने बिहार विधानसभा में कहा, ”आप भले ही जीत गए हों, लेकिन आपकी आंखें शर्म से भरी हुई हैं.”

03:01 PM
बिहार फ्लोर टेस्ट: 2024 में असर- केशी त्यागी
जेडीयू नेता केशी त्यागी ने कहा, “बिहार में लोकतंत्र की जीत का असर 2024 में होगा।”

03:00 PM
बिहार फ्लोर टेस्ट: विजय सिन्हा का हमला, बताया जंगलराज

तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए विजय सिन्हा ने कहा, “नेचर, सिग्नेचर कभी नहीं बदलता. आपके पास इतना पैसा कहां से आया? उन्होंने बिहार में जंगलराज ला दिया.”

02:57 PM
बिहार फ्लोर टेस्ट: विजय सिन्हा का तेजस्वी यादव पर निशाना
“जनादेश एनडीए को था। पहले भी था और आज भी है. कहते हैं जनता की आवाज उठाएंगे, कितनी बार गए? हमने विपक्ष में रहते हुए लोगों के आंसू पोंछे.”

2:56 PM

बिहार फ्लोर टेस्ट: विजय सिन्हा का हमला
बिहार के उपमुख्यमंत्री विजय सिन्हा ने तेजस्वी यादव पर भाई-भतीजावाद का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, “तेजस्वी यादव सभी प्रमुख विभाग अपने पास रखना चाहते हैं. पार्टी अध्यक्ष से लेकर सांसद तक सभी पद एक ही परिवार के पास होने चाहिए।”

जानकारी के लिए आपको बता दें कि इस विश्वासमत प्रस्ताव का विरोध करते हुए आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि 9 बार तो नीतीश सीएम बने, लेकिन एक ही कार्यकाल में तीन बार सीएम बनते कभी नहीं देखा। तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश पहले हमारे साथ थे। ऐसे में आरजेडी उनकी मां है। तेजस्वी यादव ने डिप्टी सीएम विजय कुमार सिन्हा पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि हम नीतीश कुमार का आदर करते हैं और करते रहेंगे। उन्होंने ईडी और सीबीआई का नाम लेकर हालांकि नीतीश कुमार पर तंज जरूर कसे। तेजस्वी ने कहा कि उनको विपक्ष में आने की खुशी है क्योंकि 17 साल के कार्यकाल में जो नहीं हुआ, वो हमने सरकार में रहते हुए 17 महीने में किया। तेजस्वी ने कहा कि क्या पीएम नरेंद्र मोदी इसकी गारंटी ले सकते हैं कि नीतीश कुमार फिर पलटेंगे या नहीं।

इससे पहले गवर्नर राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने विधानसभा में अपना संबोधन दिया। इस दौरान थोड़ा हंगामा होते देखा गया। नीतीश सरकार ने विधानसभा अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी को हटाने के लिए भी नोटिस दिया था। अध्यक्ष ने इसे मंजूरी दी और बीजेपी की तरफ से नंदकिशोर यादव ने प्रस्ताव पेश किया। इसके पक्ष में संख्याबल होने पर अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी ने अपना आसन उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी को सौंप दिया। इससे पहले आरजेडी की तरफ से आरोप लगाया गया था कि उनके विधायक चेतन आनंद और नीलम देवी को धमकी दी गई, ताकि वे सरकार की तरफ चले जाएं। चेतन आनंद के पिता बाहुबली आनंद मोहन हैं। वहीं, नीलम देवी के पति बाहुबली अनंत सिंह हैं।


बता दें कि पहले ही जेडीयू और बीजेपी के साथ हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा यानी हम के अध्यक्ष और पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने इन अटकलों को गलत बताया था कि आरजेडी की तरफ से कोई खेला किया जा सकता है। जीतनराम मांझी ने साफ कहा था कि जो खेला होना था, वो हो चुका। जबकि, नीतीश कुमार ने जब बीजेपी के साथ फिर गठजोड़ कर सरकार बनाई थी, तब आरजेडी के नेता और लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा था कि खेला होना अभी बाकी है। बिहार विधानसभा में लालू यादव की आरजेडी के 79 विधायक चुने गए थे। वहीं, बीजेपी के विधायकों की संख्या 78, नीतीश कुमार की जेडीयू के 45, कांग्रेस के 19, सीपीआई-एमएल के 12, हम के 4, सीपीआई और सीपीएम के 2-2, निर्दलीय 2 और एआईएमआईएम का 1 विधायक बिहार विधानसभा में चुनकर आए थे। बीजेपी और जेडीयू ने 128 विधायकों के साथ होने का दावा किया था। ये बहुमत की संख्या 122 से 6 ज्यादा है।