Connect with us

देश

Taiwan Controversy: अमेरिका ने किया ताइवान दौरा करने का ऐलान, तो तिलमिलाया चीन, दे डाली जो बाइडन को धमकी

Taiwan Controversy: चीन की करतूतों से आप वाकिफ ही हैं। कभी वो भारत के अरूणाचल प्रदेश को अपना हिस्ता बता डालता है, तो कभी तिब्बत को अपना हिस्सा बताता है। इस तरह वो विगत कई वर्षों से ताइवन को अपना हिस्ता बताने में लगा हुआ है, लेकिन लगता है कि इस बार उसे अपनी इस हरकत का अमेरिका की तरफ से मुंहतोड़ जवाब मिलने वाला है। आइए, आपको पूरा माजरा विस्तार से बताते हैं।

Published

on

नई दिल्ली। 25 साल बाद अमेरिकी सभा की स्पीकर नैंसी पोलोसी ने ताइवान जाने का ऐलान किया, तो चीन इस कदर खफा हो गया कि उसने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को गंभीर अंजाम भुगतने की धमकी तक दे डाली, लेकिन अमेरिका ने चीन को दो टूक कह दिया कि वह चीन की धमकियों से बिल्कुल भी डरने वाला नहीं है। नैंसी पोलोसी ताइवान की यात्रा पर जाएंगी। चीन को उसे रोकने का कोई नैतिक हक नहीं है।

Nancy Pelosi

क्यों कर रहा है चीन विरोध?

दरअसल, चीन ताइवान को स्वशासित हिस्सा मानता है, इसलिए वो अमेरिकी सभा की स्पीकर नैंसी पोलोसी की ताइवान यात्रा का विरोध कर रहा है। चीन का कहना है कि अमेरिका को अपने किसी भी अधिकारी को ताइवान रवाना करने से पहले उसे चीन से इजाजत लेनी चाहिए थी।

china xi jinping coup garside roger garside news : चीन में हो सकता है तख्तापलट.... पूर्व राजनयिक ने कहा, जिनपिंग के खिलाफ बढ़ रही नाराजगी

लेकिन अमेरिका ने ऐसा करना जरूरी नहीं समझा, जिससे खफा हुए शी जिनपिंग ने बाइडन को फोन कर गभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी, लेकिन अमेरिका ने सधे हुए शब्दों में कह दिया है कि वो किसी भी धमकी से डरने वाला नहीं है।

चार एशियाई देशों की यात्रा पर नैंसी पोलोसी

बता दें कि अमेरिकी सभा की स्पीकर नैंसी पोलोसी चार एशियाई देशों की यात्रा पर रवाना हो चुकीं हैं, जिसमें चीन भी शामिल है, जिसे लेकर अभी दोनों ही देशों के बीच विवाद देखने को मिल रहा है। चार एशियाई देशों की यात्रा के तहत सबसे पहले नैंसी सिंगापुर पहुंची थीं। आज शाम वे ताईपे के लिए रवाना होंगी। बता दें कि नैंसी की एशियाई यात्रा में अधिकृत रूप से सिंगापुर, मलेशिया, दक्षिण कोरिया और जापान सरीखे देशों का नाम शामिल था, जिसमें ताइवान का नाम नहीं था, लेकिन जैसे ही खबर आई कि नैंसी अब ताइवान की यात्रा पर भी रवाना हो सकतीं हैं, तो दोनों ही देशों के बीच विवादों की बयार बहनी लगी।

New US President Joe Biden Has Connection with India Relatives Live in Nagpur - अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन का भारत से है कनेक्शन, नागपुर में रहते हैं रिश्तेदार

उधर, अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा समन्वयक जॉन किर्बी ने कहा कि नैंसी को ताइवान जाने का अधिकार है, उसे कोई रोक नहीं सकता है। ध्यान रहे कि यह कोई पहली मर्तबा नहीं है कि जब ताइवान की तरफ से अमेरिका द्वारा ताइवान के साथ अपने रिश्ते प्रगाढ़ करने पर आपत्ति जताई गई है, बल्कि इससे पहले भी कई मौकों पर यह आपत्ति जताई जा चुकी थी, जिसके बाद दोनों ही देशों के बीच विवाद भी देखने को मिला था।

पहले भी कर चुका है चीन ऐसी हरकत

यही नहीं, अमेरिका की तरफ से भी चीन को कई मर्तबा ताइवन के क्षेत्राधिकार में दखलअंदाजी नहीं करने की हिदायत दी जा चुकी है, लेकिन चीन मानने को तैयार ही नहीं हो रहा है। यह उसी का नतीजा है कि दोनों ही देशों के बीच रिश्ते तनावग्रस्त होते जा रहे हैं।

अब ऐसे में नैंसी की ताइवान यात्रा को लेकर दोनों ही देशों के बीच क्या कुछ असर पड़ता है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement