Connect with us

देश

Delhi: जामा मस्जिद का फरमान, लड़िकयों की No Entry का लगाया प्लेट; दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष ने इमाम को भेजा नोटिस

Delhi: दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने भी जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर रोक लगाने पर नाराजगी जाहिर की है। साथ ही मालीवाल ने जामा मस्जिद के इमाम को नोटिस भी भेजा है।

Published

on

Jama Masjid

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी मस्जिद कही जाने वाली राजधानी दिल्ली की जामा मस्जिद एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार ये ऐतिहासिक मस्जिद अपने एक फरमान को लेकर विवादों में है। दरअसल अब जामा मस्जिद में लड़कियों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह फरमान मस्जिद की ओर से जारी किया गया है। मस्जिद की दीवारों पर बाकयदा एक प्लेट लगा दी गई है। सोशल मीडिया पर यह प्लेट वायरल हो रही है। जिसमें लिखा हुआ है कि, ”जामा मस्जिद में लड़की या लड़कियों का अकेले दाखिला मना है।” बता दें कि अब जामा मस्जिद के द्वारा लिए गए इस फैसले की चौतरफा निंदा हो रही है। हिंदू सगंठनों ने भी जामा मस्जिद के इस फैसले की कड़ी निंदा की है। वहीं  सोशल मीडिया पर भी लोग इस फैसला का जमकर विरोध कर रहे है।

Jama Masjid

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने भी जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर रोक लगाने पर नाराजगी जाहिर की है। साथ ही मालीवाल ने जामा मस्जिद के इमाम को नोटिस भी भेजा है। उन्होंने गुरुवार को ट्वीट करते हुए लिखा, ”जामा मस्जिद में महिलाओं की एंट्री रोकने का फ़ैसला बिलकुल ग़लत है। जितना हक एक पुरुष को इबादत का है उतना ही एक महिला को भी। मैं जामा मस्जिद के इमाम को नोटिस जारी कर रही हूं। इस तरह महिलाओं की एंट्री बैन करने का अधिकार किसी को नहीं है।”

इससे पहले विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता विनोद बंसल ने जामा मस्जिद प्रशासन के इस फैसले की आलोचना की थी। उन्होंने लिखा, ”तीन तलाक, हलाला, हिजाब और काले बोरे में कैद रखने वाले जिहादी ठेकेदार मुस्लिम बेटियों को व्यभिचार के अड्डे बनते मदरसों में भेजने की तो वकालत करते हैं किन्तु, मस्जिदों के गेट पर लट्ठ लेकर खड़े हो जाते हैं..?”

Advertisement
Advertisement
Advertisement