Coronavirus: कोरोना के बढ़ते प्रसार के बीच केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, इस दवा के निर्यात पर पूरी तरह से लगाया रोक

Coronavirus: रेमेडीसविर के सभी घरेलू निर्माताओं को कहा गया है कि वे अपनी वेबसाइट पर दवा से जुड़ी सभी जानकारी साझा करें। ड्रग्स इंस्पेक्टर और अन्य अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वो स्टॉक से लेकर कालाबाजारी को रोकने के लिए उपाय करें। आने वाले दिनों में रेमेडिसविर इंजेक्शन की मांग में और वृद्धि होने की संभावना है। रेमेडीसविर के उत्पादन को बढ़ाने के लिए फार्मास्युटिकल विभाग घरेलू निर्माताओं के संपर्क में रहा है।

Avatar Written by: April 11, 2021 6:51 pm
maharashtra

नई दिल्ली। भारत सरकार इंजेक्शन रेमेडिसविर और रेमेडिसविर एक्टिव फार्मास्युटिकल इंग्रीडिएंट्स (API) के निर्यात पर तब तक रोक लगा दी है जब तक देश में कोरोना वायरस की स्थिति में सुधार नहीं हो जाता है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण इंजेक्शन की बढ़ती मांग के बीच यह फैसला किया गया है। रेमेडीसविर के सभी घरेलू निर्माताओं को कहा गया है कि वे अपनी वेबसाइट पर दवा से जुड़ी सभी जानकारी साझा करें। ड्रग्स इंस्पेक्टर और अन्य अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वो स्टॉक से लेकर कालाबाजारी को रोकने के लिए उपाय करें। आने वाले दिनों में रेमेडिसविर इंजेक्शन की मांग में और वृद्धि होने की संभावना है। रेमेडीसविर के उत्पादन को बढ़ाने के लिए फार्मास्युटिकल विभाग घरेलू निर्माताओं के संपर्क में रहा है।

Narendra Modi meeting With CM

हाल ही में देश के कई हिस्सों से ऐसी तस्वीरें सामने आई है जहां रेमेडिसिविर इंजेक्शन के लिए मेडिकल की दुकानों पर लंबी-लंबी लाइनें देखी जा रही है और कई जगह इसकी कमी की भी खबरें आईं। रेमेडिसिविर को कोविड-19 से लड़ाई में अहम दवाई माना जाता है, खासकर उन वयस्क मरीजों में यह असरदार होती है जिन्हें संक्रमण के कारण गंभीर जटिलताएं हो जाती हैं।

Hyderabad based Hetero REMEDESIVIR COVIFOR

महाराष्ट्र सरकार ने रेमेडिसिविर इंजेक्शन की सुचारू आपूर्ति सुनिश्चित करने और इसकी जमाखोरी और काला बाजारी रोकने के लिए जिला-स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित करने का निर्णय लिया है। वहीं मध्य प्रदेश में रेमेडेसिविर इंजेक्शन की पिछले कुछ दिनों से चल रही कमी के बीच प्रदेश सरकार ने रविवार को कहा कि राज्य के शासकीय एवं निजी चिकित्सा संस्थानों को शनिवार को इसकी 8,000 शीशियां प्राप्त हुई हैं। इसके अलावा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दवा कंपनी सन फार्मा के प्रमुख को फोन करके उनसे नागपुर में रेमडेसिविर के 10,000 इंजेक्शन की व्यवस्था करने का आग्रह किया है।

remedissiver

इंदौर में रेमेडेसिविर दवा के इंजेक्शन नहीं मिलने से आक्रोशित लोगों ने शुक्रवार को यहां बंद दवा दुकान के सामने मुख्य सड़क पर चक्काजाम कर दिया। इसके बाद दवा दुकान के बाहर पर्याप्त तादाद में पुलिस तैनात कर दी गई। दवा दुकान के बंद दरवाजे पर पोस्टर चिपका था- रेमेडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost