बिहार चुनाव : लालू के समधी चंद्रिका राय सहित राजद के 3 विधायक जदयू में हुए शामिल

बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) के पहले राष्ट्रीय जनता दल (RJD) को गुरुवार को जोरदार झटका लगा, जब पार्टी के तीन विधायकों ने बिहार में सत्तारूढ जनता दल (युनाइटेड) का दामन थाम लिया।

Avatar Written by: August 20, 2020 5:45 pm
Chandrika Rai

पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) के पहले राष्ट्रीय जनता दल (RJD) को गुरुवार को जोरदार झटका लगा, जब पार्टी के तीन विधायकों ने बिहार में सत्तारूढ जनता दल (युनाइटेड) का दामन थाम लिया। दल बदलने वालों में राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के समधी चंद्रिका राय भी शामिल हैं। जदयू के प्रदेश कार्यालय में आयोजित एक समारोह में राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद के समधी और तेजप्रताप यादव के ससुर चंद्रिका राय, जयवर्धन यादव और फराज फातमी शामिल हैं। तीनों विधायकों को बिहार सरकार के मंत्री विजेंद्र यादव और श्रवण कुमार ने पार्टी की सदस्यता दिलाई।

lalu yadav and Chandrika Rai

इस दौरान चंद्रिका राय ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति अपनी आस्था जताते हुए कहा कि 15 साल पहले जैसा बिहार नीतीश को मिला था, आज उसे नीतीश कुमार ने पूरी तरह से बदल दिया है। राय ने अपन बेटी ऐश्वर्या राय के चुनाव लड़ने के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि कोई भी जो 25 साल की उम्र पूरा कर चुका है, वह चुनाव लड़ सकता है। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि ऐश्वर्या के चुनाव लड़ने को लेकर अभी कुछ तय नहीं हुआ है।

Chandrika Rai

उन्होंने आरोप लगाया कि राजद अब गरीबों की नहीं, अमीरों की पार्टी हो गई है। उल्लेखनीय है कि चंद्रिका राय की बेटी ऐश्वर्या राय के साथ लालू के बेटे तेज प्रताप यादव की शादी हुई है, लेकिन तेजप्रताप यादव ने तलाक का मुकदमा दायर कर रखा है।

बिहार चुनाव : जीतनराम मांझी ने महागठबंधन से तोड़ा नाता

बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले विपक्षी खेमा महागठबंधन को जोरदार झटका लगा है। महागठबंधन के सहयोगी पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) की पार्टी हिन्दुस्तान आवामी मोर्चा (HAM) ने महागठबंधन से नाता तोड़ लिया है। पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी ‘हम’ की गुरुवार को यहां महत्वपूर्ण बैठक हुई जिसमें पार्टी की कोर कमिटी और वरिष्ठ सदस्यों ने हिस्सा लिया। बैठक में सर्वसम्मति से महागठबंधन से नाता तोड़ने का निर्णय लिया गया।

पार्टी की कोर कमिटी की बैठक के बाद हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने पत्रकारों को महागठबंधन से अलग होने की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महागठबंधन में निरंतर उपेक्षा और समन्वय समिति की गठन करने की बात नहीं माने जाने के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी और कोर कमेटी ने सर्वसम्मति से यह फैसला लिया है। रिजवान ने बताया कि किसी अन्य गठबंधन में जाने के संबंध में अगले दो-तीन दिनों में ही निर्णय लिया जाएगा। फिलहाल अभी यह तय नहीं किया गया है कि आखिर मांझी कहां जाऐंगे। वहीं चर्चा है कि मांझी फिर से एनडीए में घर वापसी कर सकते हैं। उनकी जेडीयू के नेताओं से इस मामले में बातचीत भी हो चुकी है।