Rajasthan Gangrape: राजस्थान में दो नाबालिग बहनों से गैंगरेप, हाथरस से तुलना पर सीएम गहलोत की बेतुकी सफाई…

CM Ashok Gehlot on Rajasthan baran girls rape case: इस बीच राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दोनों घटनाओं की तुलना करते हुए बेतुकी सफाई दी है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि बारां का मामला पूरी तरह से अलग है, लेकिन राज्य सरकार जांच कर रही है।

Avatar Written by: October 1, 2020 1:37 pm
former Rajasthan CM Ashok Gehlot

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस  में हुई गैंगरेप की वारदात के बाद देशभर में आक्रोश का माहौल देखने को मिल रहा है। वहीं इस घटना से इतर राजस्थान में भी कुछ रेप की वारदातें सामने आई हैं। जिसके बाद राजस्थान की गहलोत सरकार अब सवालों के घेरे में फंसती नजर आ रही है। दरअसल राजस्थान (Rajasthan) के बारां में दो लड़कियों के साथ रेप किया गया, जिसपर अब काफी बवाल मचा हुआ है। इस बीच राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने दोनों घटनाओं की तुलना करते हुए बेतुकी सफाई दी है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि बारां का मामला पूरी तरह से अलग है, लेकिन राज्य सरकार जांच कर रही है।

बारां की घटना को लेकर अशोक गहलोत ने ट्वीट कर लिखा कि हाथरस में हुई घटना बेहद निंदनीय है, उसकी जितनी निंदा की जाए उतनी कम है लेकिन दुर्भाग्य से राजस्थान के बारां में हुई घटना को हाथरस की घटना से तुलना की जा रही है। जबकि बारां में बालिकाओं ने स्वयं मजिस्ट्रेट के समक्ष दिए 164 के बयानों में अपने साथ ज्यादती नहीं होने एवं स्वयं की मर्जी से लड़कों के साथ घूमने जाने की बात कही।

अशोक गहलोत ने आगे लिखा, घटना होना एक बात है और कार्यवाही होना दूसरी, घटना हुई तो कार्यवाही भी तत्काल हुई। इस केस को मीडिया का एक वर्ग और विपक्ष हाथरस जैसी वीभत्स घटना से कम्पेयर करके प्रदेश और देश की जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हैं।

जानिए क्या है मामला

बारां में पीड़ित लड़कियों के परिजनों का कहना है कि 18 से 21 सितंबर तक युवक दो नाबालिग लड़कियों को कोटा, जयपुर और अजमेर ले गए। जहां दोनों के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया। आरोपियों ने नाबालिग लड़कियों को पुलिस के सामने कुछ बोलने पर जान से मारने की धमकी भी दी। इस दौरान लड़कों के पकड़े जाने के बावजूद उन्हें छोड़ दिया गया। वहीं, लड़कियों को सखी केंद्र भेजा गया।