सीएम केजरीवाल बोले, घर पर आइसोलेटेड कोरोना मरीजों को दिया गया ऑक्सीमीटर

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब 200 से अधिक लोगों पर प्लाज्मा थेरेपी की जाएगी। उन्होंने कहा, “एलएनजीपी और राजीव गांधी अस्पताल और कुछ निजी अस्पतालों में प्लाज्मा थेरेपी करने की अनुमति दी गई है।”

Written by: June 26, 2020 5:29 pm

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना से संक्रमित गंभीर मरीजों के लिए गहन चिकित्सा इकाइयों (आईसीयू) में बेडों की संख्या बढ़ाई जा रही है और घर पर आइसोलेशन में रह रहे संक्रमितों को ऑक्सीजन लेवल जांचने के लिए पल्स ऑक्सीमीटर भेजे गए हैं। केजरीवाल ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “स्थिति नियंत्रण में है और चिंता करने की जरूरत हीं है। मुझे लगता है कि आने वाले समय में आईसीयू बेड की आवश्यकता होगी। गंभीर मरीजों के लिए एलएनजेपी, जीटीबी, राजीव गांधी अस्पताल में बड़े पैमाने पर इनकी संख्या बढ़ाई जा रही है।”

CM Arvind Kejriwal

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब 200 से अधिक लोगों पर प्लाज्मा थेरेपी की जाएगी। उन्होंने कहा, “एलएनजीपी और राजीव गांधी अस्पताल और कुछ निजी अस्पतालों में प्लाज्मा थेरेपी करने की अनुमति दी गई है।”

उन्होंने कहा कि एलएनजेपी अस्पताल में प्लाज्मा थेरेपी शुरू होने के बाद से मरने वालों की संख्या पहले की तुलना में आधी से भी कम हो गई है। केजरीवाल ने कहा कि पिछले सप्ताह किए गए वादे के अनुसार, घर में आइसोलेशन में रह रहे सभी रोगियों को ऑक्सीमीटर प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा, “यह ‘सुरक्षा कवच’ के रूप में कार्य करेगा। प्रत्येक 1-2 घंटे में अपने ऑक्सीजन लेवल की जांच करें। अगर यह 94 से नीचे चला जाता है, तो हमें फोन करें और हम आपके घर में ऑक्सीजन सिलेंडर भेजेंगे। अगर जरूरत पड़ी तो आपको अस्पताल भेजा जाएगा।”

CM Arvind Kejriwal

इस बीच, राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को 3,390 कोरोना मामले सामने आने के साथ 64 मौतें हुई, जिससे इस बीमारी के कुल मामलों की संख्या 73,780 तक पहुंच गई। केजरीवाल ने कहा कि जैसे-जैसे परीक्षण बढ़ रहे हैं, मामले भी बढ़ रहे हैं। 45,000 से अधिक मरीज ठीक हुए हैं। लोग बहुत तेजी से ठीक हो रहे हैं। केवल 26,000 ही सक्रिय मामले हैं, जिनमें से केवल 6,000 मरीज अस्पताल में हैं, बाकी घर पर हैं। उन्होंने कहा कि अभी हमारे पास 13,000 से अधिक बेड तैयार हैं, जिनमें से 6,000 खाली हैं और 7,500 बेडों पर मरीज हैं।

Support Newsroompost
Support Newsroompost