लद्दाख में चीन पर गरजे राजनाथ सिंह, कहा- हमारे स्वाभिमान पर अगर किसी ने चोट पहुंचाने की कोशिश की तो…

सीमा पर तनाव के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह आज से दो दिन के लद्दाख और कश्मीर के दौरे पर हैं। आज वह पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल विपिन रावत, सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे के साथ लेह पहुंचे।

Avatar Written by: July 17, 2020 2:35 pm

नई दिल्ली। सीमा पर तनाव के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह आज से दो दिन के लद्दाख और कश्मीर के दौरे पर हैं। आज वह पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल विपिन रावत, सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे के साथ लेह पहुंचे। इसके बाद वह लद्दाख गए। लद्दाख में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सेना के जवानों के साथ बात की। बता दें कि इससे पहले 3 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक लेह का दौरा किया था। इस दौरान पीएम मोदी ने एक तरफ जहां  जवानों का हौसला बढ़ाया। वहीं दूसरी ओर इशारों-इशारों में चीन को दो टूक संदेश भी दे डाला।

Rajnath Singh

हमारी एक इंच जमीन कोई छीन नहीं सकता- राजनाथ सिंह

जवानों को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि सीमा विवाद को सुलझाने के लिए बातचीत जारी है, लेकिन इसका कहां तक हल निकल सकता है इसकी मैं गारंटी नहीं दे सकता। लेकिन मैं आपको इतना जरूर आश्वस्त कर सकता हूं कि दुनिया की कोई भी ताकत हमारी एक इंच भी जमीन हमसे नहीं ले सकती है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि  बातचीत से विवाद को सुलझा लिया जाता है तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता है।

राजनाथ सिंह ने कहा, भारत दुनिया का इकलौता देश है, जिसने सारे विश्व को शांति का संदेश दिया है। हमने किसी भी देश पर कभी आक्रमण नहीं किया है और न ही किसी देश की जमीन पर हमने कब्जा किया। भारत ने वसुधैव कुटुम्बकम का संदेश दिया है।

Rajnath Singh

उन्होंने कहा, हम अशांति नहीं चाहते हम शांति चाहते हैं। हमारा चरित्र रहा है कि हमने किसी भी देश के स्वाभिमान पर चोट मारने की कभी कोशिश नहीं की है। भारत के स्वाभिमान पर यदि चोट पहुंचाने की कोशिश की गई तो हम किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेंगे और मुंहतोड़ जवाब देंगे।

Defence Minister Rajanth Singh

राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय सेना के ऊपर हमें नाज़ है। मैं जवानों के बीच आकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं, हमारे जवानों ने शहादत दी है। इसका ग़म 130 करोड़ भारतवासियों को भी है। भारत का नेतृत्व सशक्त है। हमें नरेंद्र मोदी जैसा प्रधानमंत्री मिला है। फ़ैसला लेने वाला प्रधानमंत्री मिला है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost