लॉकडाउन के बीच बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर दिल्ली पुलिस का अनोखा प्रयास

देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच भी लोगों को आवश्यकता की सारी वस्तुएं आसानी से मुहैया हो सके इसके लिए लगातार कई संस्थाएं, पुलिस के जवान और अधिकारी काम पर लगे हुए हैं।

Written by: April 17, 2020 10:58 pm

नई दिल्ली। देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच भी लोगों को आवश्यकता की सारी वस्तुएं आसानी से मुहैया हो सके इसके लिए लगातार कई संस्थाएं, पुलिस के जवान और अधिकारी काम पर लगे हुए हैं। दिल्ली पुलिस की तरफ से दिल्ली के लोगों को हर परेशानी से बचाने के लिए भी इसी तरह से प्रयास लगातार जारी हैं। दिल्ली पुलिस के नए मुखिया श्री एस एन श्रीवास्तव के आने के बाद से ही कई सकारात्मक परिवर्तन इस महकमे में देखने को मिल रहे हैं। इस विषम परिस्थिति में भी दिल्ली पुलिस के लोग दायरे से बाहर निकलकर जनता की सेवा में जुटे पड़े हैं।

New Kaundali Bazar East Delhi ACP

इस सब के बीच दिल्ली जैसी घनी आबादी वाले क्षेत्र में लोगों को किसी तरह की परेशानी ना हो साथ ही सरकार की तरफ से जारी सोशल डिस्टेंसिंग के आदेश का भी बराबर पालन हो इसके लिए भी दिल्ली पुलिस की तरफ से कई तरह के मॉडल तैयार किए गए हैं। दिल्ली पुलिस के कल्याण पुरी एसीपी जितेन्द्र पटेल ने जो तरीका अपने इलाके के न्यू कोण्डली बाजार के लिए तैयार किया वह मॉडल सच में अनोखा है। यही वजह है कि अब यहां न्यू कोण्डली बाजार में लोग आराम से अपनी खरीददारी कर रहे हैं। राशन और सब्जी फल विक्रेता अपना सामान सही तरीके से बेच भी पा रहे हैं। भीड़भाड़ का बाजार में नामोनिशान नहीं है। सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन भी हो रहा है। साथ ही रेहड़ी वालों के लिए भी बाजार में स्थान निर्धारित कर दिया गया है। हर रेहड़ी वाले के लिए भी अलग से टोकन जारी किया गया है।

New Kaundali Bazar East Delhi Rehari

इसके लिए दिल्ली पुलिस ने न्यू कोण्डली बाजार में जो तरीका इस्तेमाल किया है उसमें दो चीजों पर विशेष ध्यान दिया गया है। एक तो लोगों तक राशन के सामान की पर्याप्त मात्रा में पहुंच हो और दूसरी सब्जी और फलों की कमी भी बाजार में आनेवाले लोगों को ना हो। इसके लिए दो तरह के पास जारी किए गए हैं। एक तो सब्जियों और फलों के विक्रेता को पास जारी किया गया है। जिसके बिना वह बाजार में नहीं प्रवेश कर सकते। दूसरी तरफ राशन के दुकानों के परिचालन के लिए अलग पास जारी किए गए हैं। वहीं वाहन को लेकर बाजार में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई है।

हालांकि यह थोक बाजार है ऐसे में लोग यहां से थोक में सामान खरीदते हैं तो इस बात को ध्यान में रखते हुए कुछ सीमित पंजीकृत रिक्शा के परिचालन को अनुमति दी गई है ताकि यहां से खरीददारी के बाद बाजार से बाहर तक सामान को ले जाने के लिए इनका इस्तेमाल किया जा सके।

तस्वीरों में देखिए

इसके साथ ही एक विशेष बात और जो इस मॉडल को अनोखा बना रही है वह यह है कि बाजार को चारों तरफ से पूरी तरह से बैरिकेड कर दिया गया है और भीड़भाड़ से बचाने के लिए बाजार में प्रवेश और निकास के लिए एक-एक रास्ता दिया गया है। एसीपी साहब के इस मॉडल की वजह से लोग परेशानी का सामना करने से बच रहे हैं और हर स्थिति में सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का भी पालन हो रहा है।