दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 20 हुई, सीएम केजरीवाल बोले- तैनात हो सेना

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन करने वाले और विरोध करने वालों के बीच रविवार को भड़की हिंसा मंगलवार को भी जारी रही। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर आदि इलाकों में जारी हिंसा में करीब 250 से अधिक लोग घायल हो गए हैं, इनमें 56 पुलिस के जवान भी शामिल हैं।

Written by: February 26, 2020 9:53 am

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या 20 तक पहुंच गई है। वहीं 200 से ज्यादा लोग घायल हैं। बुधवार सुबह भी दिल्ली के गोकुलपुरी इलाके में हिंसक प्रदर्शन हुआ, यहां पर कुछ उपद्रवियों ने एक दुकान में आग लगा दी।

delhi violence updates

अपडेट-

दिल्ली में हिंसा को काबू पाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय एक्शन में आया है। दिल्ली में अब 800 अधिक जवानों की तैनाती की जाएगी। मंगलवार तक दिल्ली में 37 अर्धसैनिक बलों की कंपनियां तैनात थी, लेकिन अब इनकी संख्या 45 कर दी गई है।

दिल्ली में सुरक्षाबलों की ओर से मार्च निकाला जा रहा है। हिंसा प्रभावित इलाकों में पुलिस के साथ अन्य सुरक्षाबल, अधिकारी मार्च निकाल रहे हैं और लोगों से शांति की अपील कर रहे हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा, ‘मैं लगातार दिल्ली में कई लोगों से संपर्क में हूं। अभी हालात तनावपूर्ण हैं। पुलिस अपनी तमाम कोशिशों के बावजूद माहौल नहीं संभाल पा रही है। ऐसे में अब सेना को बुलाना चाहिए और प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगा देना चाहिए। मैं इस बारे में केंद्रीय गृह मंत्री को चिट्ठी लिख रहा हूं।’

दिल्ली की मौजूदा स्थिति पर काबू पाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल को खुली छूट दी गई है। अजित डोभाल अब से कुछ देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कैबिनेट को दिल्ली हिंसा की जानकारी देंगे।

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन करने वाले और विरोध करने वालों के बीच रविवार को भड़की हिंसा मंगलवार को भी जारी रही। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर आदि इलाकों में जारी हिंसा में करीब 250 से अधिक लोग घायल हो गए हैं, इनमें 56 पुलिस के जवान भी शामिल हैं।

दिल्ली के गोकुलपुरी इलाके में बुधवार सुबह स्क्रैप मार्केट की एक दुकान में आग लगा दी गई। चश्मदीदों का कहना है कि यहां पर कुछ लोग आए और आग लगाकर भाग गए।

दिल्ली हाईकोर्ट ने 25 और 26 फरवरी की आधी रात को सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया है कि वह हिंसा में घायल पीड़ितों को सुरक्षा देने के साथ यह भी सुनिश्चित करें कि उन्हें तत्काल आपातकालीन उपचार दिलाया जाए। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर यमुनापार में भड़के दंगे के तीसरे दिन मंगलवार को पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक ने दंगाइयों को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए। इसका असर भी रात से दिखना शुरू हो गया है, बुधवार सुबह तक ताजा हिंसा की कोई खबर नहीं है।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल मंगलवार देर रात हालात का जायजा लेने के लिए सीलमपुर पहुंचे। डोभाल ने पुलिस के आला अधिकारियों से बातचीत की। सीलमपुर स्थित डिप्टी कमिश्नर ऑफ नॉर्थ-ईस्ट पुलिस के ऑफिस में करीब एक घंटे तक पुलिस कमिश्नर समेत पुलिस के अन्य आला अफसरों के साथ बैठक करने के बाद अजीत डोभाल सीलमपुर से निकल गए।