Twitter:  ट्विटर पर सख्त गाजियाबाद पुलिस, कहा सफाई नहीं चाहिए थाने में हाजिर होकर ट्विटर इंडिया के प्रबंध निदेशक दे जवाब

Twitter:  गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर इंडिया के प्रबंध निदेशक को एक नोटिस भेजकर उन्हें यहां इस महीने की शुरुआत में एक मुस्लिम व्यक्ति पर हुए कथित हमले से संबंधित मामले की जांच में शामिल होने को कहा था।

Avatar Written by: June 21, 2021 9:29 pm

नई दिल्ली। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के लोनी में चंद दिनों पहले सामने आए मुस्लिम बुजुर्ग के साथ मारपीट के मामले में Twitter ने गाजियाबाद पूलिस को जवाब दिया है। इस मामले पर गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर से जवाब तलब किया था। Twitter की तरफ से ये जवाब गाजियाबाद पुलिस को मिल चुका है। गाजियाबाद पुलिस को Twitter ने कहा है कि वो उत्तर प्रदेश पुलिस के सवालों का सामना करने के लिए तैयार हैं। ट्वीटर ने कहा कि वो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पूछताछ के लिए उपलब्ध हैं। हालांकि गाजियाबाद पुलिस Twitter के इस जवाब से संतुष्ट नहीं है और ट्वीटर को दोबारा नोटिस भेजा गया है।

Twitter

गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर इंडिया के प्रबंध निदेशक को एक नोटिस भेजकर उन्हें यहां इस महीने की शुरुआत में एक मुस्लिम व्यक्ति पर हुए कथित हमले से संबंधित मामले की जांच में शामिल होने को कहा था। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया था कि ट्विटर इंडिया के प्रबंध निदेशक को मामले में अपना बयान दर्ज कराने के लिए सात दिनों के भीतर यहां लोनी बॉर्डर पुलिस थाने में पेश होने के लिए कहा गया है। इस मामले में माइक्रो ब्लॉगिंग साइट के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

अब इस मामले पर गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर के मैनेजिंग डायरेक्टर मनीष माहेश्वरी को दुबारा नोटिस भेजा है। ट्विटर इंडिया के हेड मनीष महेश्वरी को 24 जून को लोनी बॉर्डर थाने में पेश होने के लिए कहा गया है। ट्विटर इंडिया के रेजिडेंट ग्रीवांस ऑफिसर धर्मेंद्र चतुर को भी 24 तारीख को सुबह 10:30 बजे लोनी बॉर्ड थाना में पेश होने के लिए कहा गया है। नोटिस में कहा गया कि ट्वीट में जो भी गतिविधि हो रही है उसके लिए आप जिम्मेदार हैं। पुलिस ने कहा है कि, आप हिदायत देने के बाद भी ट्वीट्स को नहीं हटा पाये, तो वहीं आप भारतीय कानून को अच्छे से समझते हैं।

twitter

नोटिस में यूपी पुलिस ने ट्विटर के जरिए दिए गए सफाई को अयोग्य बताया है। साथ ही, ट्विटर इंडिया के हेड पर ये भी आरोप लगाया कि, वो कार्यवाही में सहयोग देने से बच रहे हैं। यूपी पुलिस ने नोटिस में लिखा की, ट्विटर इंडिया के एमडी होने के नाते आप भारत में ट्विटर के प्रतिनिधि हैं इसलिए इस जांच में सहयोग करने के लिए वे भारत के कानून से बाध्य हैं।

twitter

यूपी पुलिस ने ये भी लिखा कि, ट्विटर इंडिया के हैंडल के माध्यम से भारत में प्रसारित कौन सा ट्वीट हटाया जाना चाहिए, इसका फैसला लेने की शक्ति ट्विटर इंडिया के एमडी के पास है। ट्विटर प्लेटफॉर्म पर बीते दिनों जो ट्वीट प्रकाशित हुआ था उसके कारण समाज में तनावपूर्ण माहौल पैदा हुआ और देश प्रदेश के विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी बढ़ी और समाजिक सौहार्द को खतरा पैदा हुआ। बता दें कि ट्विटर हेड अगर 24 तारीख को पुलिस थाने में नहीं पहुंचते हैं तो कानून कार्यवाही में प्रतिरोध उत्पन्न करने और नोटिस को असफल करने का प्रयास माना जाएगा और उनपर उचति कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

Support Newsroompost
Support Newsroompost