Connect with us

देश

Saharanpur: हाजी इकबाल का बेटा हिस्ट्रीशीटर जावेद चढ़ा पुलिस के हत्थे, अब जांच में हो रहे कई चौंकाने वाले खुलासे

Saharanpur: पूर्व बसपा एमएलसी रहे खनन माफिया हाजी इक़बाल की मुश्किलें थमने का नाम नही ले रहीं हैं। SIT जांच में जहां काले कारनामों के खुलासे होते जा रहे हैं। SIT जांच रिपोर्ट के आधार पर न सिर्फ हाजी इक़बाल के खिलाफ दर्जनों मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं बल्कि परिजनों और नौकरों पर भी धोखाधड़ी और गैंगस्टर समेत कई दर्जन मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

Published

on

नई दिल्ली। बीते 5 महीने पहले हाजी इक़बाल गिरोह के खिलाफ कार्यवाई हेतु SIT का गठन किया गया था। हाजी इक़बाल समेत गिरोह के सदस्यों के खिलाफ आधा दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। खास बात ये है कि गिरोह में खनन माफिया हाजी इकबाल के चारो बेटे भी शक्रिय सदस्य हैं। जो ग्रामीणों को डरा धमका कर उनकी जमीन पर जबरन कब्जा कर लेते थे और जबरन उनके अंगूठा के निशान लेकर जमीन को अपने नौकरों और नजदीकियों के नाम करा देते थे। जिसके चलते हाजी इक़बाल और उसके परिजनों के खिलाफ गैंगस्टर की धाराओं में मुकदमे दर्ज कराए थे। एसएसपी के मुताबिक सभी मुक़दमों में हाजी इक़बाल का बेटे शक्रिय सदस्य हैं। फर्जीवाड़ा कर किसानों की जमीन हड़पने का मामले में शामिल रहे है। इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने वाले पीड़ितों को धमकाने की शिकायत भी मिली थी। जिसके आधार पर मुकदमे दर्ज किया गया था। इन्ही मुकदमों में वांछित चल रहे जावेद पर हिस्ट्रीशीटर की कार्यवाई की गई। थाना मिर्जापुर और क्राइम ब्रांच ने संयुक्त रूप से हिस्ट्रीशीटर जावेद को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस जावेद से बेनामी संपत्ति और जमीन जायदाद के बारे पूछताछ कर रही है। इसके अलावा 111 शैलस कंपनियों में हजारों करोड़ रुपया लगाया गया है उसके बारे में पूछताछ की जा रही है। एसएसपी आकाश तोमर ने बताया कि खनन माफिया हाजी इक़बाल गिरोह के खिलाफ लगातार कार्यवाई की जा रही है। उसके पार्टनर राव लईक , मुंशी नसीम अहमद जमानत पर बाहर आ गए हैं जबकि बड़ा बेटा आलीशान गैंगस्टर के तहत जेल में सजा काट रहा है। और दूसरे बेटे जावेद को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है। हालांकि हाजी इक़बाल पुलिस के साथ लुका छिपी का खेल खेल रहा है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी के भी प्रयास कर रही है। कोर्ट ने हाजी इक़बाल के बिना अनुमति विदेश जाने पर रोक लगाई हुई है।

SIT जांच में हो रहे कई खुलासे

पूर्व बसपा एमएलसी रहे खनन माफिया हाजी इक़बाल की मुश्किलें थमने का नाम नही ले रहीं हैं। SIT जांच में जहां काले कारनामों के खुलासे होते जा रहे हैं। SIT जांच रिपोर्ट के आधार पर न सिर्फ हाजी इक़बाल के खिलाफ दर्जनों मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं बल्कि परिजनों और नौकरों पर भी धोखाधड़ी और गैंगस्टर समेत कई दर्जन मुकदमे दर्ज किए गए हैं। अवैध खनन एवं गैंगस्टर के मामले में पुलिस ने हाजी इक़बाल के बेटे को गिरफ्तार कर लिया है जबकि खनन माफिया हाजी इक़बाल लुकाछिपी का खेल खेल रहा है। थाना मिर्जापुर पुलिस की इस कार्यवाई के बाद इक़बाल खेमे में हड़कम्प मचा हुआ है। पुलिस ने खनन माफिया की 125 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति पहले ही कुर्क कर ली है और कुछ और संपत्तियां चिन्हित की जा रही है।  हाजी इक़बाल का बेटा आलीशान, मुंशी नसीम अहमद, पूर्व ब्लॉक प्रमुख राव लईक को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। खनन माफिया का बेटा आलीशान गैंगस्टर के तहत जेल में सजा काट रहा है। पुलिस हाजी इक़बाल की गिरफ्तारी के प्रयास कर रही है।

आपको बता दें कि बसपा सरकार के कार्यकाल में हाजी इक़बाल ने यमुना नदी का सीना चीर कर न सिर्फ अवैध खनन को अंजाम दिया था बल्कि परिजनों के साथ मिलकर ग्रामीणों की जमीनों पर भी जबरन कब्जा कर लिया था। बसपा सरकार में हाजी इक़बाल ने अवैध खनन इतनी बेनामी संपत्ति अर्जित कर ली कि वह खनन माफिया से अकूत संपत्ति का बेताब बादशाह बन गया। इतना ही नही धन बल पर बसपा सुप्रीमो मायावती से सांठगांठ कर विधान परिषद पहुंच गया। जिससे उसके साथ बेटों के भी हौसले इस कदर बुलंद हो गए कि हाजी इक़बाल के बेटे जावेद ने न सिर्फ लोगों साथ धोखाधडी की बल्कि जबरन किसानों की जमीन पर कब्जा कर लिया।हैरत की बात तो ये है कि 2012 में बसपा सरकार बदल गई लेकिन हाजी इक़बाल और बेटों का रसूख नही बदला।

हाजी इकबाल के चार बेटों के खिलाफ मुकदमा दर्ज 

2017 में बीजेपी की सरकार आई तो पीड़ितों को न्याय की उम्मीद जगी। पीड़ितों ने थाना मिर्जापुर और बेहट में हाजी इक़बाल और परिजनों पर गंभीर आरोप लगाते इंसाफ की गुहार लगाई थी। ग्रामीणों के आरोप हैं कि मुकदमे दर्ज कराने के बाद इक़बाल के चारों बेटे जावेद, आलीशान आदि अपने गुर्गों के साथ मिलकर पीड़ितों पर मुकदमे वापस लेने का दबाव बनाते थे। इतना ही नही उनकी बात नही मानने पर जान से मारने तक की धमकियां दी जाती थी। पुलिस अधिकारियों ने मामले की SIT जांच कराई तो इक़बाल बाला का पूरा परिवार अपराधिक मामलों में संलिप्त पाया गया। SIT जांच रिपोर्ट के बाद पुलिस ने साक्ष्यों के आधार पर मुकदमे दर्ज किए गए। पुलिस ने हाजी इक़बाल और उसके चारों बेटों के खिलाफ धोखाधड़ी और गैंगस्टर समेत संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। क्राइम ब्रांच और थाना मिर्जापुर पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर मिर्जापुर गांव पास से खनन माफिया के बेटे जावेद को गुरुवार की देर शाम को गिरफ्तार कर लिया है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement