Assam: सीएम हेमंत बिस्वा सरमा की मुसलमानों से अपील, कराएं फैमिली प्लानिंग, बताया बढ़ती जनसंख्या को सामाजिक खतरा

Assam: हेमंत बिस्वा सरमा ने राज्य के अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों से अपील की कि वह परिवार नियोजन की नीति को अपनाएं। उन्होंने कहा कि हर सामाजिक संकट की मूल जड़ बढ़ती जनसंख्या ही है।

Avatar Written by: June 10, 2021 9:29 pm
Assam education minister Himanta Biswa Sarma Maktab Name changed

नई दिल्ली। यूं तो बढ़ती जनसंख्या को लेकर पूरी दुनिया चिंतित है। लेकिन भारत में तेज रफ्तार जनसंख्या वृद्धि की वजह से जिस तरह से संसाधनों की कमी हो रही है। लोगों को शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित रहना पड़ रहा है यह किसी छुपा नहीं है। जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग भी देश में तेज हो गई है। हालांकि पढ़े लिखे लोग इस कानून के बिना ही अपने बच्चों की अच्छी परवरिश और उनके उत्तवल भविष्य के लिए लगातार नसबंदी की प्रक्रिया को अपना रहे हैं। लेकिन भारत की मुस्लिम आबादी अभी भी फैमिली प्लानिंग जैसी चीजों से अपने को कोसों दूर रख रही है और वह भी केवल और केवल धर्म के नाम पर। ऐसे में मुसलमानों की आबादी देश में तेजी के साथ बढ़ती जा रही है। जिसका असर देश की बढ़ती जनसंख्या पर पड़ रहा है। अगर यही हाल रहा तो एक दिन यह जनसंख्या विस्फोट ही मानव जित के विनाश का कारण बनेगा।

इस सब को लेकर छिड़ी बहस के बीच असम के सीएम हेमंत बिस्वा सरमा ने एक ऐसा बयान दिया है जिससे सियासी बवाल मचना तय है। हालांकि हेमंत बिस्वा सरमा का बयान किसी भी मायने से गलत नहीं है। उन्होंने मुसलमानों के अपील कि है कि बढ़ती जनसंख्या एक तह से सामाजिक खतरा बन गई है। ऐसे में मैं मुसलमानों से अपील करता हूं कि वह फैमिली प्लानिंग की प्रक्रिया को चुनें जिसके द्वार जनसंख्या नियंत्रण कर इस सामाजिक खतरे से बचा जा सके।

Himanta Biswa Sarma

हेमंत बिस्वा सरमा ने राज्य के अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों से अपील की कि वह परिवार नियोजन की नीति को अपनाएं। उन्होंने कहा कि हर सामाजिक संकट की मूल जड़ बढ़ती जनसंख्या ही है।

असम के मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि जनसंख्या नीति पहले से ही है और यह सरकारी नौकरियों की तरह जल्द ही प्रभावी होगी। पिछली विधानसभा में जनसंख्या नीति लागू की गई थी। लेकिन सरकार की अब कोशिश है कि अल्पसंख्यक समुदाय के ऊपर आ रहे जनसंख्या बोझ को कम किया जा सके।

हेमंत बिस्वा सरमा ने आगे कहा कि हम जनसंख्या के बढ़ते बोझ को कम करने के लिए मुस्लिम समुदाय के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं। ताकि राज्य में बढ़ती जनसंख्या को नियंत्रित किया जा सके। सरमा ने आगे कहा कि उनकी सरकार अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय की महिलाओं को शिक्षित करने पर ध्यान केंद्रित करेगी, ताकि समस्या का सही तरीके से समाधान किया जा सके।

Support Newsroompost
Support Newsroompost