खुफिया एजेंसी का अलर्ट, 15 अगस्त को लाल किले पर झंडा फहराने की साजिश रच रहे खालिस्तानी…

आईबी की तरफ से कहा गया है कि खालिस्तान () की मांग करने वाले सिख फॉर जस्टिस की अगुआई वाले आकाओं में से एक ने लाल किले (Red Fort) पर 14, 15 और 16 अगस्त के दिन खालिस्तान का झंड़ा फहराने वाले सिख को सवा लाख डॉलर देने का ऐलान किया है

Avatar Written by: August 13, 2020 4:50 pm

नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश में कोई आतंकी गतिविधियां ना हों, इसके लिए देश की सुरक्षा एजेंसिया बेहद चौकन्ना हैं। इसके अलावा खुफिया एजेंसी (IB) ने बड़ा अलर्ट जारी किया है। 15 अगस्त को लेकर आईबी की तरफ से कहा गया है कि खालिस्तान की मांग करने वाले सिख फॉर जस्टिस की अगुआई वाले आकाओं में से एक ने लाल किले पर 14, 15 और 16 अगस्त के दिन खालिस्तान का झंड़ा फहराने वाले सिख को सवा लाख डॉलर देने का ऐलान किया है।

Red Fort delhi

इसको लेकर सिख फॉर जस्टिस की तरफ से एक वीडियो भी जारी किया गया है। वीडियो में खालिस्तानी झंडे को लाल किले पर लगाने का ऐलान किया है। वीडियो में सिख फॉर जस्टिस के आकाओं को कहते सुना जा सकता है कि जो भी सिख लाल किले पर खालिस्तान का झंड़ा लगाएगा उसे सवा लाख डॉलर दिया जाएगा। आईबी से इस तरह का अलर्ट मिलने के बाद लाल किले और इसके आसपास की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। भारतीय सेना और दिल्ली पुलिस लाल किले के चारों ओर तैनात पूरी तरह से तैनात है।

Red fort Delhi

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि खालिस्तान समर्थकों को आर्थिक रूप से पाकिस्तानी ISI द्वारा मदद मिलती है। इसके अलावा और भी कई तरह की मदद पहुंचाई जाती है। सिख फॉर जस्टिस का प्रमुख गुरुवंतपंत पन्नू है। यही नहीं गुरुवंतपंत पन्नू वही शख्स है जो दुनियाभर में रेफरेंडम 2020 चला रहा है।

Khalistan Poster

सिख फॉर जस्टिस के सुप्रीमो गुरपतवंत सिंह पन्नू की ओर से जारी किए गए वीडियो में कहा गया है कि 15 अगस्त का दिन सिखों के लिए स्वतंत्रता दिवस का दिन नहीं है। ये दिन सिखों को 1947 में हुए बंटवारे के समय हुई त्रासदी की याद दिलाता है। वीडियो में पन्नू आगे बोलता हुआ नजर आ रहा है कि आज भी हमारे लिए कुछ भी नहीं बदला है। बदले हैं तो केवल शासक। हम अभी भी भारतीय संविधान में हिंदू के रूप में दर्ज हैं और पंजाब के संसाधनों का इस्‍तेमाल अन्‍यायपूर्ण तरीके से अन्‍य राज्‍यों के लिए किया जा रहा है। हमें वास्‍तविक स्‍वतंत्रता की जरूरत है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost