Connect with us

देश

Mathura: जन्‍माष्‍टमी के अवसर पर बांके बिहारी मंदिर में हुई घटना, 2 श्रद्धालुओं की भीड़ में दबकर मौत और कई की हालत बिगड़ी

Mathura: रात 1.55 बजे मंगला आरती शुरू हुई। ये साल में सिर्फ एक बार होती है। इसलिए इस दौरान भीड़ का दबाव अचानक बढ़ गया

Published

नई दिल्ली। जन्‍माष्‍टमी पर जहां पूरे देश में भगवान श्रीकृष्‍ण की पूजा-अर्चना की जा रही थी वहीं दूसरी तरफ मथुरा से एक बुरी खबर सामने आ रही है। मथुरा में हादसा हो गया। वृंदावन में स्थित बांके बिहारी के प्रसिद्ध मंदिर में देर रात भारी भीड़ जुटी और इस भीड़ में अव्‍यवस्‍था फैल गई। इस दौरान दम घुटने के कारण एक महिला और एक पुरुष की मौत हो गई। कई लोगों की हालत बिगड़ गई, जिन्हें पुलिस ने बड़ी मुश्किल से भीड़ से निकाला। जिन दो लोगों की मौत हुई उनके परिवारीजन बिना पोस्‍टमार्टम ही शवों को अपने साथ ले लगे। बता दें कि बांके बिहारी में शुक्रवार की आधी रात जन्माष्टमी पर अपार भीड़ थी। रात 1.55 बजे मंगला आरती शुरू हुई। ये साल में सिर्फ एक बार होती है। इसलिए इस दौरान भीड़ का दबाव अचानक बढ़ गया।

एक श्रद्धालु के बेहोश होने के कारण हुआ हादसा 

मंदिर के 2 निकास द्वार हैं। 1 नंबर और 4 नंबर। वहीं 4 नंबर गेट पर एक श्रद्धालु का दम घुटने लगा जिसके कारण वह बेहोश हो गया। पुलिस कर्मी जब तक उस श्रद्धालु को निकालते तब तक मंदिर से निकलने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ और ज्यादा जमा हो गई। जिसके कारण से अन्य श्रद्धालुओं का दम घुटने लगा और हादसा हो गया। ये घटना रात 1:55 बजे हुआ। इस घटना में घायल हुए श्रद्धालुओं को वृंदावन के राम कृष्ण मिशन, सौ शैय्या और ब्रज हेल्थ केयर अस्पताल भेजा गया। इस वक्त देव प्रकाश और इनकी पत्नि निर्मला देवी निवासी नोएडा सेक्टर 99 एवं रुक्मणि विहार निवासी 65 वर्षीय राम प्रसाद विश्वकर्मा की मौत हो गई। रामप्रसाद मूल रूप से जबलपुर मध्य प्रदेश के निवासी थे।

डीएम-एसपी भी थे मौजूद

मंदिर में जिस समय यह घटना हुई उस समय डीएम, एसएसपी, नगर आयुक्त सहित भारी पुलिस बल मौजूद था। घटना होते ही पुलिस और निजी सुरक्षा कर्मियों ने बेहोश हो रहे श्रद्धालुओं को मंदिर से निकालना शुरू कर दिया।

Advertisement
Advertisement
Advertisement