Connect with us

देश

Sandeep Kumar: भारतीय लेखक संदीप कुमार मिश्रा इंटरनेशनल अवार्ड्स एंथोलॉजी में शामिल, ऑस्ट्रेलिया में हैं कार्यरत

Sandeep Kumar: इन उपलब्धियों के बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा कि यह कड़ी मेहनत, ईमानदारी और लगन का नतीजा है। अधिकतर उनका लेखन व्यक्तिगत अनुभवों को दर्शाता है और भावनाओं से भरा हुआ है। वे पारिवारिक संबंधों के सही अर्थ की खोज करते हैं

Published

on

sandeep kumar

नई दिल्ली। सुजानगढ़ की धरती में जन्मे और ऑस्ट्रेलिया में कार्यरत संदीप मिश्रा को विश्व के लेखकों में शामिल प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों ने उनकी कहानियों को अपनी पत्रिकाओं में शामिल किया है। भारतीय लघु कथाकार संदीप कुमार मिश्रा की कहानियों को ‘अनासी आर्काइव फिक्शन एंथोलॉजी’-2022, ‘एमपीटी स्टोरी एंथोलॉजी’-2022, यूके में ‘एशियन एंथोलॉजी’-2022 और ऑस्ट्रेलिया में ‘न्यूकैसल शॉर्ट स्टोरी अवार्ड एंथोलॉजी’-2022 और भारत में ‘पोइज़िस अवार्ड एंथोलॉजी’-2022 में शामिल किया गया है। इस वर्ष उनकी कहानियों को विभिन्न विश्वविद्यालयों जैसे एंटिओक विश्वविद्यालय, लॉस एंजिल्स (यूएसए), हम्बोल्ट स्टेट यूनिवर्सिटी (यूएसए), यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ अलबामा (यूएसए), ईस्टर्न न्यू मैक्सिको यूनिवर्सिटी (यूएसए), नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी बोस्टन (यूएसए), सेंट्रल कनेक्टिकट स्टेट यूनिवर्सिटी (यूएसए), रोजर विलियम्स यूनिवर्सिटी (यूएसए), मिल्स कॉलेज (यूएसए), व्रीजे यूनिवर्सिटी, एम्स्टर्डम (हॉलैंड) की पत्र-पत्रिकाओं में शामिल किया गया है।

इन उपलब्धियों के बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा कि यह कड़ी मेहनत, ईमानदारी और लगन का नतीजा है। अधिकतर उनका लेखन व्यक्तिगत अनुभवों को दर्शाता है और भावनाओं से भरा हुआ है। वे पारिवारिक संबंधों के सही अर्थ की खोज करते हैं और कुछ कहानियाँ अत्यधिक आत्मकथात्मक हैं। वे अनंत उतार-चढ़ाव, लंबे सुख-दुख और अनकही व्यथाओं वाली कहानियाँ लिखते हैं । उनकी प्रसिद्ध कहानियों में “ए फादर्स सन”, “डेड ड्रीम्स”, “द ब्रोच” और “रिविजिटिंग ए ब्रोकन हाउस” शामिल हैं। ‘डेड ड्रीम्स’ एक आत्मकथात्मक कहानी है जहां उन्होंने अपने भीतर के दर्द, अपने टूटे हुए सपने, बुरे सपने और अपनी पत्नी और बच्चों को होने वाली परेशानियां को एक साहित्यिक कल्पना के साथ दिखाया है, जबकि ‘ए फादर्स सन’ में वे अपने पिता के साथ संबंधों की खोज करते हैं जो गरीबी, तनाव और अधूरी इच्छाओं के जाल में फंसे हुए थे। ‘द ब्रोच’ किसी तरह के जादू से जरूरतमंदों की मदद करने का उनका आंतरिक प्रयास है। ये कहानियाँ उनकी आंतरिक शुद्ध आत्मा को दर्शाती हैं।

sandeep kumar

वह दो और किताबों पर काम कर रहे हैं। जिसमें से एक लघु कहानी संग्रह और दूसरी बच्चों की किताब जो इस साल प्रकाशित होगी। बता दें कि संदीप कुमार मिश्रा ने अपनी हालिया पुस्तक, “वन हार्ट- मैनी ब्रेक्स” को लिखने में बीस साल बिताए, जो अगस्त 2020 में इंडियन पोएट्री रिव्यू द्वारा प्रकाशित हुई और उसके बाद बेस्टसेलर किताब बन गई। उनके पास “पोइज़िस अवार्ड-2021”, “इंडियन अचीवर्स अवार्ड -21”, “आईपीआर एनुअल अवार्ड -2020” और “लिटरेरी टाइटन अवार्ड -2020” जैसे कई अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार हैं। उन्हें “इंटरनेशनल बुक अवार्ड्स -21″,”इंडीज टुडे बुक ऑफ द ईयर अवार्ड 2020” और “जॉय बेल बूने पोएट्री प्राइज 2021” और “ओप्रेल राइज अप पोएट्री प्राइज 2021” के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था। वह “द स्टोरी मिरर ऑथर ऑफ द ईयर” नॉमिनी-2019 भी थे।

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement