Connect with us

देश

President Ram Nath Kovind: जानिए, अपने विदाई संबोधन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने क्या कुछ कहा

President Ram Nath Kovind: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने संबोधन में कहा कि पांच साल पहले मैं अपने जनप्रतिनिधियों के जरिए राष्ट्रपति चुना गया था। इसके लिए मैं अपने जनप्रतिनिधियों का दिल से आभार व्यक्त करता हूं। उन्होंने आगे कहा कि,  ‘हमारे पूर्वजों और हमारे आधुनिक राष्ट्र-निर्माताओं ने अपने कठिन परिश्रम और सेवा भावना के द्वारा न्याय, स्वतंत्रता, समता और बंधुता के आदर्शों को चरितार्थ किया था।

Published

on

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज देश के नाम आखिरी संबोधन दिया है। उनका आज  आखिरी कार्यकाल है। इसके बाद वे पूर्व राष्ट्रपतियों की फेहरिस्त में शुमार हो जाएंगे। लेकिन, अपने आखिरी कार्यकाल के दिन उन्होंने देश के नाम आखिरी संबोधन दिया, जिसमें उन्होंने क्या कुछ कहा है। आइए, आपको विस्तार से बताते हैं।

संबोधन की मुख्य बातें 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने संबोधन में कहा कि पांच साल पहले मैं अपने जनप्रतिनिधियों के जरिए राष्ट्रपति चुना गया था। इसके लिए मैं अपने जनप्रतिनिधियों का दिल से आभार व्यक्त करता हूं। उन्होंने आगे कहा कि,  ‘हमारे पूर्वजों और हमारे आधुनिक राष्ट्र-निर्माताओं ने अपने कठिन परिश्रम और सेवा भावना के द्वारा न्याय, स्वतंत्रता, समता और बंधुता के आदर्शों को चरितार्थ किया था। हमें केवल उनके पदचिह्नों पर चलना है और आगे बढ़ते रहना है’।


इसके बाद उन्होंने आगे कहा कि, ‘ हमारे पूर्वजों और हमारे आधुनिक राष्ट्र-निर्माताओं ने अपने कठिन परिश्रम और सेवा भावना के द्वारा न्याय, स्वतंत्रता, समता और बंधुता के आदर्शों को चरितार्थ किया था। हमें केवल उनके पदचिह्नों पर चलना है और आगे बढ़ते रहना है। उन्होंने आगे कहा कि हमें प्रकृति के साथ-साथ अन्य सभी जीवों की रक्षा के लिए अधिक सावधान रहना चाहिए। हमें अपने बच्चों की खातिर अपने पर्यावरण, अपनी जमीन, हवा और पानी का ध्यान रखना चाहिए।

राष्ट्रपति ने आगे कहा कि, ‘प्रकृति मां गहरी पीड़ा में है, जलवायु संकट इस ग्रह के भविष्य को खतरे में डाल सकता है। मेरा दृढ़ विश्वास है कि हमारा देश 21वीं सदी को भारत की सदी बनाने के लिए सुसज्जित हो रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति युवा भारतीयों को अपनी विरासत से जोड़ने, 21वीं सदी में अपने पैर जमाने में मदद करेगी। उन्हें अपने कार्यकाल के दौरान समाज के सभी वर्गों से पूर्ण सहयोग, समर्थन और आशीर्वाद मिला। आपको बता दें कि इससे पहले भी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के नाम अपने संबोधन में विभिन्न बातों का जिक्र किया  था। इस दौरान उन्होंने संसद में सांसदों द्वारा गतिविधियों में गरीमा बनाए रखने की अपील भी की थी।

Advertisement
Advertisement
Yogi Adityanath
देश3 hours ago

UP News : गीता से मिलती है निष्काम कर्म की प्रेरणा, गीता प्रेस में आयोजित गीता जयंती समारोह में बोले मुख्यमंत्री योगी

देश3 hours ago

Delhi MCD Election: खत्म हुआ मतदान, अब नतीजों का इंतजार, 1349 उम्मीदवारों की किस्मत EVM में कैद

खेल3 hours ago

FIFA 2022 : नॉकआउट मुकाबले में जीत के साथ फ्रांस नौवीं बार विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में, एम्बाप्पे और जिरूड ने दिखाया शानदार खेल, पोलैंड हुई बाहर

बिजनेस4 hours ago

Share Market News : अरबपति निवेशक राधाकिशन दमानी ने VST इंडस्ट्रीज से घटाई अपनी हिस्सेदारी, ब्लॉक डील के जरिए बेच डाले पूरे 33 करोड़ रुपये के शेयर

खेल4 hours ago

Ind vs Ben: बांग्लादेश से मिली शर्मनाक हार से टीम इंडिया पर भड़के फैंस, सोशल मीडिया पर जमकर की खिंचाई

Advertisement