West bengal: ममता ने कहा नंदीग्राम से लड़ूंगी चुनाव, बोले शुभेंदु अधिकारी ‘वहां दीदी को हराऊंगा या राजनीति से संन्यास ले लूंगा’

West bengal: सियासी गलियारे में इस बात की चर्चा है कि ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) को लगने लगा है कि प्रदेश में उनकी सियासी जमीन कमजोर हो गई है। इसलिए वह दो सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर रही हैं। वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि ममता के नंदीग्राम से चुनाव लड़ने से शुभेंदु अधिकारी (Shubhendu Adhikari) के जाने की कमी को पार्टी ऐसे में पूरा करना चाहती है।

Avatar Written by: January 18, 2021 8:17 pm
Subhendu Adhikari

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले ही सभी सियासी दल अपने ताकत बढ़ाने में जुट गए हैं। पार्टियों के नेताओं का पाला बदलना और दूसरी पार्टी का दामन थामना लगातार जारी है। ममता बनर्जी के सबसे करीबी शुभेंदु अधिकारी ने भाजपा का दामन थाम लिया। शुभेंदु अधिकारी का नंदीग्राम में दबदवा किसी से छूपा नहीं है और इसे ममता भी अच्छी तरह से जानती हैं क्योंकि इसी नंदीग्राम के आंदोलन ने ममता को पश्चिम बंगाल में सियासत के शिखर पर ला दिया और वह सीएम की कुर्सी तक पहुंच गईं। लेकिन नंदीग्राम में शुभेंदु के जाने के बाद अपनी सियासी जमीन कमजोर होता देख ममता ने अब दो जगहों से चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। इसमें से एक सीट भवानीपुर है जहां से वह जीत हासिल करती रही हैं और आज उन्होंने नंदीग्राम सीट से भी चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया।

Shubhendu adhikari mamta

सियासी गलियारे में इस बात की चर्चा है कि ममता बनर्जी को लगने लगा है कि प्रदेश में उनकी सियासी जमीन कमजोर हो गई है। इसलिए वह दो सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर रही हैं। वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि ममता के नंदीग्राम से चुनाव लड़ने से शुभेंदु अधिकारी के जाने की कमी को पार्टी ऐसे में पूरा करना चाहती है।


आपको बता दें कि शुभेंदु अधिकारी लगातार नंदीग्राम से चुनाव लड़ते रहे हैं। यहां शुभेंदु की पकड़ काफी मजबूत है। ऐसे में ममता बनर्जी द्वारा इस सीट से चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद शुभेंदु अधिकारी ने जो कहा उससे कोई भी आश्चर्यचकित हो सकता है साथ ही यह ममता की पार्टी के लिए एक तरह से चेतावनी के तौर पर भी देखा जा सकता है। शुभेन्दु अधिकारी ने यहां दावा किया कि, वह (ममता बनर्जी) चुनाव के दौरान ही नंदीग्राम जाती हैं। क्या वह बता सकती हैं कि उसने नंदीग्राम के लोगों के लिए क्या किया है? जो कोई भी उसके खिलाफ चुनाव लड़ेगा, वह 50,000 वोटों से हार जाएगा। अगर मैं उसे हारने में नाकाम रहा, तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा।


इस सब के बीच ममता आज नंदीग्राम पहुंची तो वहीं दूसरी तरफ आज भाजपा के नेता कोलकाता में रोड शो कर रहे थे। कोलकाता में हो रहे भाजपा के रोड शो में अचानक ही बवाल मच गया। यहां भाजपा के कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे। इसमें केंद्रीय मंत्री देबाश्री चौधरी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष और TMC छोड़कर भाजपा में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी भी शामिल थे। वहीं इस रोड शो में पहले टीएमसी और भाजपा के कार्यकर्ता के बीच तीखी बयानबाजी शुरू हुई और देखते ही देखते यह बवाल पत्थरबाजी में तब्दील हो गया। कोलकाता की सड़कों पर दोनों दलों के कार्यकर्ता एक दूसरों पर पत्थरबाजी करने लगे।

Support Newsroompost
Support Newsroompost