Connect with us

देश

Manish Sisodiya : शराब घोटाले में बढ़ सकती हैं मनीष सिसौदिया की मुश्किलें, उनका कथित करीबी बन सकता है सरकारी गवाह

Manish Sisodiya : दिल्ली की विशेष सीबीआई अदालत दिनेश अरोड़ा को सरकारी गवाह बनाने की केंद्रीय जांच ब्यूरो की अपील पर अपना आदेश सुना सकती है। अरोड़ा ने कहा कि मैंने सीबीआई के आवेदन को देखा है।

Published

नई दिल्ली। आबकारी नीति घोटाले में फंसे दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। गुजरात चुनाव से पहले दिल्ली में आम आदमी पार्टी के उपमुख्यमंत्री के ऊपर इस तरह के आरोप गुजरात में भी आम आदमी पार्टी के रास्ते में मुश्किलें खड़ी कर रहे हैं। अब मनीष सिसोदिया का कथित सहयोगी आरोपी दिनेश अरोड़ा इस मामले में सरकारी गवाह बन सकता है। दिनेश अरोड़ा ने सोमवार को कहा कि वह मामले में सरकारी गवाह बनने पर सहमत है और अपनी भूमिका के बारे में सही जानकारियां देने को तैयार है। उसने बताया कि मैंने सीबीआई जांच में भी सहयोग किया है और जांच अधिकारी के सामने सही बयान दिए हैं। मैंने संबंधित तथ्यों और घटनाओं की बाबत एसीएमएम के समक्ष इकबालिया बयान भी दिए हैं।

आपको बता दें कि दिल्ली की विशेष सीबीआई अदालत दिनेश अरोड़ा को सरकारी गवाह बनाने की केंद्रीय जांच ब्यूरो की अपील पर अपना आदेश सुना सकती है। अरोड़ा ने कहा कि मैंने सीबीआई के आवेदन को देखा है। सीबीआई की ओर से यह आवेदन मुझे क्षमादान के अनुरोध के साथ दायर किया गया है क्योंकि मैं स्वेच्छा से मामले से संबंधित तथ्यों का खुलासा करने के लिए तैयार हूं। दिनेश अरोड़ा के बयान मनीष सिसोदिया को और मुसीबत में डाल सकते हैं। गौरतलब है कि कोर्ट में गवाही देने के सवाल पर दिनेश अरोड़ा ने कहा- मैं बिना किसी दबाव के ऐसा कर रहा हूं। मैं उन शर्तों का पालन करने के लिए तैयार हूं जो अदालत मुझ पर लगा सकती है। मैं मामले में क्षमा दिए जाने का अनुरोध करता हूं। अदालत ने संज्ञान लिया कि दिनेश अरोड़ा ने उचित शर्तों पर क्षमा मांगी, क्योंकि वह इस मामले के संबंध में सभी तथ्यों का खुलासा करने के लिए तैयार है। अरोड़ा के वकील ने सोमवार को बंद कमरे में सुनवाई की गुजारिश की। दिनेश अरोड़ा अपने बयानों की गोपनीयता को बनाए रखना चाहता है इसीलिए बंद कमरे में बयान देना चाहता है।

मनीष सिसोदिया के कथित सहयोगी दिनेश अरोड़ा के वकील ने कहा कि यह एक बेहद संवेदनशील मामला है। मीडिया को इससे बाहर रखा जाना चाहिए। सीबीआई ने बंद कमरे में सुनवाई किए जाने के आवेदन का विरोध नहीं किया। विशेष सीबीआई न्यायाधीश एमके नागपाल ने कहा कि वह सीबीआई की ओर से प्रस्तुत किए गए आवेदन को देख रहे हैं। वह कैमरे की नजर में अदालती कार्यवाही की मांग पर भी आदेश पारित करेंगे।

गौर करने वाली बात यह है कि इस मामले की सुनवाई के दौरान दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के कथित सहयोगी आरोपी दिनेश अरोड़ा ने सच बोलने की शपथ ली। उसने कहा कि वह कथित अपराधों में संलिप्तता के बारे में स्वेच्छा से जानकारी साझा करने के लिए तैयार है। उसने कहा कि मैंने पहले भी सीबीआई की ओर से की जा रही छानबीन में सहयोग किया है। मैंने इस संबंध में जांच अधिकारी के समक्ष कुछ बयान भी दिए हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement