बेंगलुरु हिंसा पर मेरठ से आया भड़काऊ बयान, ‘कांग्रेस विधायक के भांजे का सिर कलम करने वाले को 51 लाख रुपये’

कर्नाटक(Karnataka) के दलित कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति(Akhand Shrinivas Murti) के भांजे पी. नवीन ने बीते मंगलवार को फेसबुक(Facebook) पर पैगंबर मोहम्मद को लेकर एक आपत्तिजनक पोस्ट की थी।

Avatar Written by: August 14, 2020 9:21 am

नई दिल्ली। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में एक फेसबुक पोस्ट को लेकर हुई हिंसा को और भड़काने का काम अब उत्तर प्रदेश के मेरठ से किया जा रहा है। मेरठ निवासी शाहजेब रिजवी ने बेंगलुरु के कांग्रेस दलित विधायक के भांजे के सिर पर 51 लाख रुपये की घोषणा की है। बता दें कि शाहजेब रिजवी यूपी में मेरठ के फलावदा कस्बे का निवासी है। वो खुद को समाजसेवी बताता है।

bengaluru

शाहजेब ने इसको लेकर बकायदा एक वीडियो भी जारी किया है। इस वीडियो में वो बेंगलुरु की घटना का जिक्र करते हुए कह रहा है कि, मोहम्मद साहब की शान में गुस्ताखी करने वाले युवक का सिर कलम करने वाले को वह 51 लाख रुपए का इनाम देगा। धनराशि की व्यवस्था के लिए वह मुस्लिम समाज के लोगों से योगदान करने के लिए भी कह रहा है।

बता दें कि फलावदा के पंछाली पट्टी निवासी शाहजेब रिजवी ने गुरुवार को यह वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। अपने इस वीडियो में शाहजेब कह रहा है कि पैगंबर मोहम्मद के बारे में इस तरह के कृत्य से मुस्लिम समाज के लोगों को ठेस पहुंची है। नबी के बारे में ऐसी बयानबाजी इंसानियत को भी शर्मसार करने वाली है।

शाहजेब रिजवी मेरठ में फलावदा थाना क्षेत्र के रसूलपुर गांव के रहने वाले हैं। पूर्व में समाजवादी पार्टी अल्पसंख्यक सभा के प्रदेश सचिव रहे हैं। फिलहाल वह सपा में नहीं हैं। जिला पंचायत का चुनाव लड़ा, लेकिन हार गए।

Shahzeb Rizvi

शाहजेब के खिलाफ धार्मिक उन्माद फैलाने समेत अन्य धाराओं में दारोगा पवन मलिक की तरफ से रिपोर्ट दर्ज की गई है। सीओ बृजेश कुमार का कहना है कि जांच में वायरल वीडियो सही पाया गया तो शाहजेब की गिरफ्तारी होगी।

Meeerut letter Shahzeb

आपको बता दें कि कर्नाटक के दलित कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के भांजे पी. नवीन ने बीते मंगलवार को फेसबुक पर पैगंबर मोहम्मद को लेकर एक आपत्तिजनक पोस्ट की थी। इसको लेकर बेंगलुरु में हिंसक भड़क गई थी।

Bengluru Voilence fb post

मुस्लिम समाज के लोगों ने पत्थरबाजी करने के साथ ही कांग्रेस विधायक के घर और दो पुलिस थानों में आग लगा दी थी। सार्वजनिक संपत्ति को भी काफी नुकसान पहुंचाया गया। हिंसा रोकने की कोशिश में करीब 60 पुलिसकर्मी घायल हो गए। पुलिस फायरिंग में तीन लोगों की मौत हुई।