Connect with us

देश

Agneepath Violence: अग्निपथ योजना के खिलाफ हिंसा करने वालों पर पुलिस का एक्शन, अब तक 1000 से ज्यादा गिरफ्तार

सबसे ज्यादा गिरफ्तारी बिहार में हुई है। बिहार में ही अग्निपथ योजना के खिलाफ सबसे ज्यादा प्रदर्शन और हिंसा की घटनाएं हुई हैं। गिरफ्तार लोगों में कई कोचिंग चलाने वाले भी हैं। इन सभी पर युवाओं को भड़काकर हिंसा कराने का आरोप लगा है। सभी पर सख्त धाराएं पुलिस लगा रही है।

Published

on

agniveer protest 2

नई दिल्ली। सेना में अग्निवीर जवानों की भर्ती के लिए लाई गई ‘अग्निपथ योजना’ के खिलाफ जारी हिंसा में अब पुलिस ने तेजी से कार्रवाई शुरू कर दी है। बिहार से लेकर गुजरात और तेलंगाना तक भड़की हिंसा में शामिल उपद्रवी तत्वों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जा रही है और अब तक 1000 से ज्यादा उपद्रवियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। सबसे ज्यादा गिरफ्तारी बिहार में हुई है। बिहार में ही अग्निपथ योजना के खिलाफ सबसे ज्यादा प्रदर्शन और हिंसा की घटनाएं हुई हैं। गिरफ्तार लोगों में कई कोचिंग चलाने वाले भी हैं। इन सभी पर युवाओं को भड़काकर हिंसा कराने का आरोप लगा है।

बिहार पुलिस की ओर से बताया गया है कि अब तक राज्य में अग्निपथ योजना के खिलाफ हुई हिंसा के मामलों में 148 केस दर्ज किए गए हैं। इन केस के तहत पुलिस ने 805 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है। बिहार सरकार ने कहा है कि हिंसा और उपद्रव करने वालों को कतई बख्शा नहीं जाएगा। राज्य के मसौढ़ी में 4 कोचिंग संचालकों पर एफआईआर है। मसौढ़ी से ही 191 लोग पकड़े गए हैं। बिहार के पड़ोसी राज्य यूपी में भी पुलिस ताबड़तोड़ गिरफ्तारी कर रही है। एडीजी कानून और व्यवस्था प्रशांत कुमार के मुताबिक पुलिस ने रविवार तक 34 केस दर्ज कर 387 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा बिहार सरकार ने आज राज्य के 20 जिलों में इंटरनेट बंद कर दिया है। ये जिले हैं कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, बक्सर, नवादा, पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, सारण, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, गया, मधुबनी, जहानाबाद, खगड़िया और शेखपुरा। वहीं, हिंसा को देखते हुए रेलवे ने तय किया है कि बिहार में फिलहाल सभी ट्रेनों को रात 8 बजे से सुबह 4 बजे तक ही चलाया जाएगा। इसके अलावा दिन में एक भी ट्रेन राज्य से होकर नहीं गुजारी जाएगी।

Agniveer

यूपी के पड़ोसी राज्य उत्तराखंड में भी पुलिस अग्निपथ योजना के विरोध में हिंसा करने वाले तत्वों की तलाश में जुट गई है। शुक्रवार को नैनीताल राष्ट्रीय राजमार्ग पर हिंसक प्रदर्शन किया गया था। इस मामले में करीब 400 लोगों पर केस दर्ज हुआ है। पुलिस के मुताबिक यहां प्रदर्शनकारियों ने पुलिसकर्मियों के साथ ही आम लोगों से भी मारपीट की थी। इसके अलावा सार्वजनिक संपत्तियों को भी खूब नुकसान पहुंचाया गया था। इन्हीं सब मामलों में पुलिस अब गिरफ्तारियां करने वाली है।

गुजरात में भी अग्निपथ योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने वाले 14 लोगों को पकड़ा गया है। ये गिरफ्तारियां बिना इजाजत प्रदर्शन करने पर हुई हैं। गांधीनगर के मेघानीनगर इलाके में सौ से ज्यादा लोगों ने प्रदर्शन किया था।

agniveer protest 1

तेलंगाना में पुलिस ने सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर हिंसा और आगजनी के मामले में रविवार तक 46 लोगों को पकड़ा है। एडीजी रेलवे संदीप शांडिल्य के मुताबिक कोचिंग संस्थानों के प्रमुखों की ओर से उकसाने के कारण हिंसा हुई थी। युवा उनके बहकावे में आकर स्टेशन पहुंचे थे और तोड़फोड़ के साथ एक ट्रेन में आग लगाई थी। उन्होंने कहा कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement