Connect with us

देश

Amazon: गरीब बच्चों को बहला-फुसलाकर धर्म बदलवाने वाले ‘ऑल इंडिया मिशन’ के लिए दानवीर बना अमेजन, तो NCPCR चीफ प्रियंक कानूनगो ने भेजा समन

अमेजन पर आरोप है कि वह ऑल इंडिया मिशन को आर्थिक मदद कर रहा है। वह अपनी आय का बड़ा हिस्सा अमेजन को दे रहा है। इसी पर आपत्ति जताते हुए एनसीपीसीआर प्रमुख प्रियंक कानूनगो ने अमेजन को समन जारी किया है। दरअसल, ऑल इंडिया मिशन पर आरोप है कि वे अनाथालय और बच्चों के मदद के नाम पर पहले तो आर्थिक सहायता प्राप्त करता है।

Published

Amazon

नई दिल्ली। बाल अधिकारों को लेकर मुखर होकर आवाज उठाने वाले राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ( NCPCR) के चेयरमैन प्रियंक कानूनगो ने अमेजन के खिलाफ बड़ा एक्शन लिया है। दरअसल, एनसीपीसीआर ने अमेजन को समन जारी कर आगामी नवंबर में प्रस्तुत होने के लिए भी कहा है। इससे पूर्व आयोग की तरफ से अमेजन को सितंबर में भी नोटिस जारी किया गया था, लेकिन उस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई और अब अमेजन को जब समन जारी कर दिया गया है, तो ऐसे में उसका रिएक्शन क्या रहता है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। आइए, आगे पहले वो पूरा माजरा विस्तार से जान लेते हैं, जिसे लेकर अमेजन को समन जारी किया गया है।

मध्य प्रदेशः एनसीपीसीआर ने सागर के डीएम पर धर्म परिवर्तन की जानकारी दबाने का आरोप लगाया

जानें पूरा माजरा

अमेजन पर आरोप है कि वह ऑल इंडिया मिशन को आर्थिक मदद कर रहा है। इसी पर आपत्ति जताते हुए एनसीपीसीआर प्रमुख प्रियंक कानूनगो ने अमेजन को समन जारी किया है। दरअसल, ऑल इंडिया मिशन पर आरोप है कि वे अनाथालय और बच्चों के मदद के नाम पर पहले तो आर्थिक सहायता प्राप्त करता है और उन आर्थिक सहायता से भोले भाले बच्चों को बहला फुसलाकर उनका ईसाई धर्म में धर्मांतरण कराता है और यह काम किसी एक या दो व्यक्ति के द्वारा, अपितु पूरा तंत्र एकजुट होकर करता है। वहीं, अब अमेजन भी इस तंत्र का हिस्सा बन चुका है, जिस पर एनसीपीसीआर ने कड़ा एक्शन लिया है।

कैसे बना अमेजन इस खेल का हिस्सा

अब आपके जेहन में यह सवाल उठ सकता है कि आखिर अमेजन धर्मांतरण के इस खेल का हिस्सा कैसे बन गया। दरअसल, अमेजन पर आरोप है कि उसके  यहां ऑनलाइन के जरिए जो भी खदीर हो रही है, उससे प्राप्त होने वाले धन का कुछ हिस्सा ऑल इंडिया मिशन को आर्थिक सहायता के रूप में दिया जा रहा है, जिस पर स्वत: संज्ञान लेते हुए एनसीपीसीआर ने अमेजन को समन जारी कर आगामी नवबंर माह में पेश होने के लिए कहा है। हालांकि, सितंबर में भी उसे नोटिस जारी किया गया था, लेकिन कोई जवाब नहीं आया। अब आगामी दिनों में अमेजन की क्या प्रतिक्रिया रहती है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी।

क्या हैं ऑल इंडिया मिशन पर आरोप

उधर, अगर ऑल इंडिया मिशन पर लगे आरोपों की बात करें, तो उस पर कई अवैध गतिविधियों में संलिप्त होने के आरोप लग चुके हैं। धर्मांतरण की गतिविधियों में यह संगठन शुमार रहा है और तो और बच्चों को बहला- फुसलाकर उनका धर्म परिवर्तन कराना ऑल मिशन का मूल कर्तव्य माना जाता है। इतना ही नहीं, ऑल इंडिया मिशन पर आरोप है कि यह संगठन भारत विरोधी गतिविधियों को धार देने में भी जुटा रहा है। लेकिन, अब इस संगठन के खिलाफ एक्शन का सिलसिला शुरू हो चुका है। अब ऐसी स्थिति में यह पूरा माजरा आगामी दिनों में क्या रुख अख्तियार करता है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी।

Advertisement
Advertisement
Advertisement