Parilament Session 2020: विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यसभा में दोनों कृषि विधेयक पास

Parilament Session 2020: विपक्ष के भारी हंगामे के बीच कृषि से जुड़े दोनों विधेयक- कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) विधेयक 2020 और कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 रविवार को राज्यसभा में पास हो गए।

Avatar Written by: September 20, 2020 3:25 pm
Rajya Sabha

नई दिल्ली। विपक्ष के भारी हंगामे के बीच कृषि से जुड़े दोनों विधेयक- कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) विधेयक 2020 और कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 रविवार को राज्यसभा में पास हो गए। इससे पहले राज्यसभा में चर्चा के दौरान विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। नारेबाजी करते विपक्षी दलों के सांसद उपसभापति के आसन तक पहुंच गए। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर उस वक्त विपक्ष के सवालों का जबाव दे रहे थे। वहीं विधेयक पास होने पर कृषि मंत्री नरेंद्र संह तोमर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने खुशी जताई है।

Rajya Sabha

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा, ‘विभिन्न आयोगों और विशेषज्ञों की सिफारिशों के बावजूद, कांग्रेस ने उन किसानों के साथ कभी न्याय नहीं किया जो खुद को वर्षों से असहाय महसूस कर रहे थे। आज जब कांग्रेस को एहसास हुआ कि राज्यसभा में उनके पास समर्थन नहीं है, तो उन्होंने ‘गुंडागर्दी’ का सहारा लिया।’

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व वाली सरकार ने किसानों को पिछले 70 वर्षों से जारी अन्याय से मुक्त किया है। विपक्षी दल किसान विरोधी हैं। प्रक्रिया का हिस्सा होने के बजाय, उन्होंने किसानों की मुक्ति में बाधा डालने की कोशिश की। भाजपा उनके कृत्य की निंदा करती है।’


वहीं रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘बड़े ही हर्ष का विषय है कि राज्यसभा में पारित होने के बाद कृषि क्षेत्र में व्यापक सुधार लाने में सक्षम दो विधेयकों, किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक और किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा समझौता विधेयक को संसद की मंजूरी मिल गई है।’

राजनाथ सिंह ने कहा, ‘प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में और कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर के दिशानिर्देशन में आज ‘आत्मनिर्भर कृषि’ की मजबूत नींव रख दी गई है। संसद में इन दोनों विधायकों के पारित हो जाने के बाद कृषि क्षेत्र में वृद्धि और विकास का एक नया इतिहास लिखा जाएगा।’