Gurugram: गुरुग्राम में खाली जमीन पर नमाज पढ़ने पर विवाद, हिंदू संगठनों ने नारे लगाकर किया विरोध

Gurugram: सर्वविदित है कि इससे पूर्व भी गुरुग्राम में इन लोगों ने ऐसा ही किया था, जिसको ध्यान में रखते हुए इनका विरोध किया गया था, लेकिन जैसा कि हम देख ही चुके हैं कि इन लोगों को हो रही समस्याओं की कोई परवाह नहीं की।

Written by: October 22, 2021 6:36 pm

नई दिल्ली। हमारा संविधान प्रत्येक व्यक्ति को अपने धर्म के नियमों का अनुपलान करने की संपूर्ण स्वतंत्रता प्रदान करता है, लेकिन इसकी आड़ में कोई ऐसा काम करने की इजाजत नहीं है, जिससे हमारे समाज में रह रहे लोगों को किसी प्रकार की समस्या का सामना करना पड़े, लेकिन अगर इसके बावजूद ऐसा होता है, तो उसका विरोध होना स्वभावित है, क्योंकि लोगों से मिलकर ही किसी समाज की स्थापना होती है और अगर लोगों को ही किसी भी प्रकार की समस्या होगी तो समझिए इसका सीधा खतरा हमारे समाज पर पड़ेगा। इन्हीं सब स्थितियों से संबंधित एक ऐसा ही मामला गुरुग्राम से बीते दिनों सामने आया था, जहां विशेष समुदाय के लोग नमाज अदा करने के लिए सार्जनिक स्थलों को घेरकर बैठ जाते हैं, जिससे वहां रह रहे लोगों को आवाजाही सहित अन्य गतिविधियों में बाधा होती है।

HINDU

हालांकि, कई मर्तबा लोगों को हो रही समस्याओं को ध्यान में रखते हुए इन्हें सार्वजनिक स्थलों के उपयोग से बचने का सुझाव दिया गया, लेकिन इन्होंने इस सुझाव को दरकिनार करते हुए इस गतिविधि को यथावत जारी रखा, जिसको ध्यान में रखते हुए आज एक बार फिर इसे लेकर स्थानीय इलाकों में सक्रिय हिंदू संगठन मसलन विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, हिंदू महासभा समेत अन्य संगठनों ने ऐसा कर रहे लोगों के विरोध में तल्ख रुख अख्तियार करते हुए इन्हें ऐसा न करने का सुझाव दिया है। हिंदू संगठनों ने इन लोगों को ऐसा न करने को कहा।

संगठनों ने कहा कि आपके ऐसा करने से स्थानीय लोगों को आवाजाही के दौरान समस्या होती है। उम्मीद है कि आप लोग समझ जाएंगे व ऐसा करने से परहेज करेंगे। वहीं, खबरों की मानें तो मौके पर पहुंची पुलिस लोगों की समझाइश कर रही है। उन्हें समझा रही है कि आपके ऐसा करने से अन्य लोगों को समस्या होती है। मेहरबानी करके सामाजिक समरसता का सहारा लेते  हुए ऐसी किसी भी गतिविधि से बचें।

सर्वविदित है कि इससे पूर्व भी गुरुग्राम में इन लोगों ने ऐसा ही किया था, जिसको ध्यान में रखते हुए इनका विरोध किया गया था, लेकिन जैसा कि हम देख ही चुके हैं कि इन लोगों को हो रही समस्याओं की कोई परवाह नहीं की। बता दें कि इससे पहले भी वजीराबाद से एक ऐसा ही मामला सामने आया था, जहां कुछ लोगों ने सार्वजनिक स्थलों पर नमाज अदा किया था, लेकिन जब स्थानीय लोगों ने खुद को हो रही सस्याएं बताई, तो इन लोगों ने ऐसा करने से परहेज किया और फिर कभी सार्जनिक स्थलों पर नमाज अदा नहीं किया। लेकिन, गुरुग्राम वाला मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost