PM Modi address in UNGA : प्रधानमंत्री मोदी ने पूछा-कोरोना महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है?

PM Modi address in UNGA : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly) के 75 वें सत्र में आम सभा को संबोधित करते हुए इस अंतरराष्ट्रीय संस्था की कार्यप्रणाली में व्यापक बदलावों पर जोर दिया।

Avatar Written by: September 26, 2020 6:31 pm
PM Narendra Modi

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly) के 75 वें सत्र में आम सभा को संबोधित करते हुए इस अंतरराष्ट्रीय संस्था की कार्यप्रणाली में व्यापक बदलावों पर जोर दिया। भारतीय समयानुसार शाम करीब 6.30 बजे से आम सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने पूछा कि आखिर कोरोना महामारी से निपटने के प्रयासों में संयुक्त राष्ट्र संघ कहां है?

PM Narendra Modi

अहम बातें-

आज भारत अपने गांवों के 150 मिलियन घरों में पाइप से पीने का पानी पहुंचाने का अभियान चला रहा है। कुछ दिन पहले ही भारत ने अपने 6 लाख गांवों को ब्रॉडबैंड ऑप्टिकल फाइबर से कनेक्ट करने की बहुत बड़ी योजना की शुरुआत की है।

विश्व के सब से बड़े लोकतंत्र होने की प्रतिष्ठा और इसके अनुभव को हम विश्व हित के लिए उपयोग करेंगे। हमारा मार्ग जनकल्याण से जगकल्याण का है। भारत की आवाज हमेशा शांति, सुरक्षा, और समृद्धि के लिए उठेगी।

Pandemic के बाद बनी परिस्थितियों के बाद हम ‘आत्मनिर्भर भारत’ के विजन को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत अभियान, Global Economy के लिए भी एक Force Multiplier होगा।

PM Narendra Modi

भारत जब किसी से दोस्ती का हाथ बढ़ाता है, तो वो किसी तीसरे देश के खिलाफ नहीं होती। भारत जब विकास की साझेदारी मजबूत करता है, तो उसके पीछे किसी साथी देश को मजबूर करने की सोच नहीं होती। हम अपनी विकास यात्रा से मिले अनुभव साझा करने में कभी पीछे नहीं रहते।

भारत के लोग UN के रिफॉर्म्स को लेकर जो प्रोसेस चल रहा है, उसके पूरा होने का बहुत लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। भारत के लोग चिंतित हैं कि क्या ये Process कभी logical end तक पहुंच पाएगा। कब तक भारत को संयुक्त राष्ट्र के decision making structures से अलग रखा जाएगा।

पिछले 8-9 महीने से पूरा विश्व कोरोना वैश्विक महामारी से संघर्ष कर रहा है। इस वैश्विक महामारी से निपटने के प्रयासों में संयुक्त राष्ट्र कहां है? एक प्रभावशाली Response कहां है?

इन युद्धों और हमलों में, जो मारे गए वो हमारी-आपकी तरह इंसान ही थे। लाखों मासूम बच्चे जिन्हें दुनिया पर छा जाना था, वो दुनिया छोड़ कर चले गए। उस समय और आज भी, संयुक्त राष्ट्र के प्रयास क्या पर्याप्त थे?

ये बात सही है कि कहने को तो तीसरा विश्व युद्ध नहीं हुआ, लेकिन इस बात को नकार नहीं सकते कि अनेकों युद्ध हुए, अनेकों गृहयुद्ध भी हुए। कितने ही आतंकी हमलों ने खून की नदियां बहती रहीं।

अगर हम बीते 75 वर्षों में संयुक्त राष्ट्र की उपलब्धियों का मूल्यांकन करें, तो अनेक उपलब्धियां दिखाई देती हैं। अनेक ऐसे उदाहरण भी हैं, जो संयुक्त राष्ट्र के सामने गंभीर आत्ममंथन की आवश्यकता खड़ी करते हैं।