विकास दुबे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने, यहां पढ़े मौत की वजह…

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद मोस्ट वांटेड बने विकास दुबे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सोमवार को सामने आ गई है। जिसके मुताबिक, विकास दुबे की मौत गोली लगने के बाद खून बहने के अलावा शॉक की वजह से हुई है।

Avatar Written by: July 20, 2020 10:05 am

कानपुर। कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद मोस्ट वांटेड बने विकास दुबे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सोमवार को सामने आ गई है। जिसके मुताबिक, विकास दुबे की मौत गोली लगने के बाद खून बहने के अलावा शॉक की वजह से हुई है।

vikas Dubey

एनकाउंटर में विकास के तीन गोलियां आरपार हुई थीं। शरीर में 10 जख्म थे। पहली गोली दाहिने कंधे और अन्य दो गोलियां बाएं सीने में लगी थीं। विकास दुबे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, दाहिने हिस्से में सिर, कोहनी, पसली और पेट में चोटें थीं। मुठभेड़ के दौरान उसके शरीर से तीन गोलियां आरपार हुई थीं। शरीर के अलग अलग हिस्सों में कुल दस जख्म मिले हैं। छह जख्म (इंट्री-एग्जिट) गोलियों के हैं, जबकि अन्य चार जख्म शरीर के दाहिने हिस्से में थे। ये जख्म गोलियां लगने के बाद गिरने से हुए। फोरेंसिक एक्सपर्ट के मुताबिक पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट दस इंजरी का जिक्र है। विकास दुबे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में छह इंजरी गोलियों की हैं। यानी तीन गोलियां शरीर के आरपार (इंट्री-एग्जिट) हुई हैं। एक गोली दाहिने कंधे व अन्य गोलियां बाएं सीने पर लगी थीं।

vikas dubey

इसके अलावा दाहिने हिस्से में सिर, कोहनी, पसली और पेट में चोटें हैं। फोरेंसिक एक्सपर्ट के मुताबिक पहली गोली विकास के कंधे पर लगी। अन्य दो गोलियां सीने पर लगीं। विकास दुबे के सिर पर हल्का सा जख्म व सूजन भी थी। कोहनी फट गई थी। वहीं पेट और पसली में भी थोड़ा गहरा जख्म व सूजन आई। एसटीएफ ने एनकाउंटर में दावा किया था कि विकास ने उन पर गोली चलाई तब उन्होंने जवाबी कार्रवाई की। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ब्लैकनिंग का जिक्र नहीं है। इससे ये साफ नहीं हो सका है कि गोली कितनी दूरी से चलाई गई।

Vikas Dubey

बता दें कि बिकरू गांव में दो जुलाई की रात को विकास दुबे के घर दबिश देने गई पुलिस की टीम पर घातलगाकर बैठे बदमाशों ने हमला कर दिया था। जिसमें सीओ सहित आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गए। पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई कर विकास दुबे के पांच साथियों को मुठभेड़ में मार गिराया। जिसके बाद, यूपी एसटीएफ ने विकास के 12 साथियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Vikas Dubey

नौ जुलाई की सुबह उज्जैन से कानपुर लाते समय विकास की कार पलट गई। इस दौरान उसने सिपाही की पिस्टल छीन कर भागने की कोशिश की पर पुलिस ने मुठभेड़ में विकास को भी मार गिराया।  इस पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी और जांच आयोग का गठन हुआ है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost