Bangladesh: कट्टरपंथियों ने दुर्गा पूजा पंडाल में मचाया उत्पात, तोड़ी मूर्तियां

Navratri: बांग्लादेश के विभन्न इलाकों में धार्मिक तनाव से जुड़ी खबरें सामने आती हैं। एक बार फिर नवरात्रि के बीच बंगलादेश में जबरदस्त हंगामा हुआ है। सिर्फ हंगामा ही नहीं बल्कि गोलीबारी भी हुई है। मौत भी हुई और अब इंसाफ की मांग हो रही है।

Written by: October 14, 2021 6:01 pm

नई दिल्ली: नवरात्रि हिन्दुओं का एक विशेष त्यौहार है। नौ दिन तक चलने वाले इस त्यौहार को बेहद पवित्र माना जाता है। बांग्लादेश में हिन्दू अल्पसंख्यक हैं। मुसलमानों की संख्या अधिक है। कई बार बांग्लादेश के विभन्न इलाकों में धार्मिक तनाव से जुड़ी खबरें सामने आती हैं। एक बार फिर नवरात्रि के बीच बांग्लादेश में जबरदस्त हंगामा हुआ है। सिर्फ हंगामा ही नहीं बल्कि गोलीबारी भी हुई है। मौत भी हुई और अब इंसाफ की मांग हो रही है।

Durga Pooja

मूर्तियाँ तोड़ी गयीं, गोलियां चलीं 

दरअसल पूरी कहानी एक अफवाह से शुरू होती है। बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने ट्वीट करके कहा कि “13 अक्तूबर  बांग्लादेश के इतिहास का निंदनीय दिन है। अष्टमी के दिन मूर्ति विसर्जन के मौके पर कई पूजा मंडपों में तोड़फोड़ की गई और हिंदुओं को चोट पहुंचाई गई। हिंदुओं को अब पूजा मंडपों की रखवाली करनी पड़ रही है। आज पूरी दुनिया चुप है। मां दुर्गा अपना आशीर्वाद सभी हिंदुओं पर बनाए रखें। दरिंदो को कभी माफी न करें।”

साजिश के तहत किया गया हंगामा, प्रधानमंत्री से मदद की अपील 

खबरों की मानें तो एक फेसबुक पोस्ट से दावा किया गया कि एक दुर्गा पंडाल के पास कुरआन का अपमान किया गया है। जिसके बाद कट्टरपंथी मुसलमानों ने कई दुर्गा पंडालों में तोड़-फोड़ की और जमकर हंगामा किया। जब इनका पंडाल में मौजूद लोगों ने विरोध किया तो उनपर गोलियों से हमला कर दिया। वहीँ कुरआन के अपमान की बात पर कमिला महानगर पूजा उद्जापोन कमेटी के महासचिव शिबू प्रसाद दत्ता ने बताया कि किसी ने कुरान की एक कॉपी दुर्गा पूजा मंडप में सुबह-सुबह रख दी और फोटो क्लिक की फिर भाग गये! बताया गया कि उस वक्त गार्ड सो रहा था। कुछ घंटों के भीतर उन सभी ने फेसबुक का उपयोग करते हुए भड़काऊ तस्वीरों को वायरल कर दिया।

‘पूजा नहीं करेंगे कम से कम हिंदुओं को बचा लीजिये’ 

बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने अब बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से सुरक्षा की मांग की है। BHUC की तरफ से लिखा गया कि “हिंदुओं को सुरक्षा मुहैया कराई जाए। काउंसिल ने ट्वीट करके कहा कि अगर बांग्लादेश के मुसलमान नहीं चाहते तो हिंदू पूजा नहीं करेंगे, लेकिन कम से कम हिंदुओं को तो बचा लीजिए। हमला अभी भी जारी है। प्लीज आर्मी भेजिए। हम पूजा मंडपों में बांग्लादेश की सेना चाहते हैं।”

इतना ही नहीं, बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने ट्वीट कर लोगों से शान्ति बनाये रखने की अपील की है। इसके साथ ही साथ bhuc की तरफ से कहा गया कि कुछ लोग माहौल खराब करना चाहते हैं। पंडाल के पास कहीं भी कुरआन का अपमान नही किया गया है। कुरआन और दुर्गा पूजा का आपस में कोई संबंध नहीं हैं। जब तक अच्छे मुसलमान जिंदा हैं तब तक हम भी जिन्दा हैं।

 

 

 

 

Support Newsroompost
Support Newsroompost