Connect with us

देश

Satyendra Jain : तिहाड़ जेल के भीतर सत्येंद्र जैन को मिला VVIP ट्रीटमेंट, नियमों को ताक पर रखकर हुई सेवा; जांच समिति की रिपोर्ट में दावा

Satyendra Jain : जांच रिपोर्ट के पैरा 26 में बताया गया है कि इसके जरिए उन्होंने विशेष सुविधाओं का लाभ उठाया। जेल में पांच कैदियों (रिंकू, अफसर अली, मनीष, सोनू सिंह और दिलीप कुमार) को जेल प्रशासन ने दबाव डालकर उनकी सेवा में लगाया।

Published

Satyendra Jain

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन की मुसीबतें कम नहीं हो रही हैं। तिहाड़ जेल के भीतर VVIP ट्रीटमेंट के वीडियो वायरल होने के बाद वो जांच समितियों के रडार पर हैं। अब जांच समिति ने भी अपनी रिपोर्ट में वीआईपी ट्रीटमेंट की बात कही है। प्रमुख सचिव गृह, प्रमुख सचिव कानून और सचिव विजिलेंस ने अपनी जांच रिपोर्ट में नियमों के उल्लंघन का हवाला दिया है। इस मामले में जेल अफसरों की मिलीभगत का दावा जांच रिपोर्ट में किया गया है।

Satyendra Jainआपको बता दें कि समिति की इस जांच रिपोर्ट के अनुसार सत्येंद्र जैन ने जेल में रहने के दौरान नियमों का उल्लंघन किया और अपने पद का गलत लाभ उठाया। जांच रिपोर्ट के पैरा 26 में बताया गया है कि इसके जरिए उन्होंने विशेष सुविधाओं का लाभ उठाया। जेल में पांच कैदियों (रिंकू, अफसर अली, मनीष, सोनू सिंह और दिलीप कुमार) को जेल प्रशासन ने दबाव डालकर उनकी सेवा में लगाया। इसमें जेल अधीक्षक, वार्डन और जेल मुंशी शामिल हैं। समिति की रिपोर्ट में बताया गया है कि तत्कालीन डीजी जेल संदीप गोयल की सत्येंद्र जैन के साथ मिलीभगत थी। उनके विरुद्ध विभागीय कार्यवाही के लिए पैरा 25 में सिफारिश की गई है। सेवा में लगे कैदियों को डर था कि अगर उन्होंने आज्ञा मानने से इनकार कर दिया तो उन्हें जेल में यातना दी जाएगी।

satyendra jain new videoजांच रिपोर्ट में बताया गया है कि सत्येंद्र जैन ने नियमों का उल्लंघन कर अपनी सेल में इसी मामले के सह-अभियुक्त वैभव जैन और अंकुश जैन के अलावा संजय गुप्ता और रमन भूरारिया (जो ईडी के दूसरे मामलों में आरोपी हैं) के साथ बैठक की। ये बैठकें जेल के प्रतिबंधित घंटों के दौरान भी की गईं। इस तरह सत्येंद्र जैन पर लगे ये आरोप औए भी गंभीर होते जा रहे हैं। जेल के नियमों को ताक पर रखकर VVIP ट्रीटमेंट लेना समानता के अधिकार का हनन है।

massage of satyendra jain in jailइसके साथ ही समिति द्वारा पेश की गई इस रिपोर्ट के मुताबिक, जेल अधिकारियों ने विशेष तौर पर सत्येंद्र जैन की मालिश रिंकू से कराई। तत्कालिक जेल अधीक्षक ने दावा किया था कि यह स्वेच्छा और प्यार से की गई थी। रिपोर्ट के अनुसार, यह दावा गलत है। यह अधिकार का दुरुपयोग और नियमों का उल्लंघन है। जांच रिपोर्ट में जेल में मिलाई के लिए भी नियमों के उल्लंघन का मुद्दा उठाया गया है। समिति ने बताया है कि सत्येंद्र जैन से उनकी पत्नी पूनम जैन और परिवार के अन्य सदस्य नियमों का उल्लंघन कर मिले। इसके अलावा रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि उस समय महानिदेशक रहे संदीप गोयल ने सत्येंद्र जैन से उनके सेल में 6 अक्तूबर को शाम छह बजकर 39 मिनट से सात बजकर 29 मिनट तक, लगभग 50 मिनट तक मुलाकात की। 12 सितंबर को तत्कालीन जेल अधीक्षक अजीत कुमार ने सत्येंद्र जैन से उनके सेल में करीब 15 मिनट तक बातचीत की।

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement